ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार मुजफ्फरपुरसभी आईओ को मिलेगा लैपटॉप और स्मार्ट फोन

सभी आईओ को मिलेगा लैपटॉप और स्मार्ट फोन

जिले के 42 थाना व ओपी के सभी आईओ को मुख्यालय से एक लैपटॉप और स्मार्ट फोन दिया जाएगा। प्रत्येक आईओ का सीसीटीएनएस नेटवर्क पर अपना कोड होगा। उस कोड से...

सभी आईओ को मिलेगा लैपटॉप और स्मार्ट फोन
हिन्दुस्तान टीम,मुजफ्फरपुरTue, 11 Jun 2024 01:45 AM
ऐप पर पढ़ें

मुजफ्फरपुर, प्रमुख संवाददाता
जिले के 42 थाना व ओपी के सभी आईओ को मुख्यालय से एक लैपटॉप और स्मार्ट फोन दिया जाएगा। प्रत्येक आईओ का सीसीटीएनएस नेटवर्क पर अपना कोड होगा। उस कोड से लॉगिन कर आईओ ऑनलाइन केस डायरी अपडेट करेंगे। केस डायरी अब लैपटॉप पर ही लिखना होगा। न्यायालय भी सीसीटीएनएस से जुड़े हैं। लिहाजा केस डायरी अपडेट होते न्यायालय भी इससे अपडेट हो जाएगा। डायरी के इंतजार में अब केस पेंडिंग नहीं रहेंगे।

पुलिस लाइन में सोमवार को प्रशिक्षण शिविर में आए पुलिस अधिकारियों को यह जानकारी दी गई। आगामी एक जुलाई से आईपीसी की जगह न्याय संहिता लागू होगा। इसमें आईपीसी की धाराएं बदल जाएंगी। इसलिए अधिकारियों को बदली हुई धाराओं और उसमें किए गए प्रावधान की जानकारी दी जा रही है। साथ ही लैपटॉप पर केस डायरी अपडेट करना भी बताया जा रहा है।

नए न्याय संहिता में प्रत्येक केस की जांच के लिए अवधि तय की गई है। अधिकतम दो से तीन माह के अंदर केस में जांच और कार्रवाई पूरी करनी है। तय समय में काम पूरा नहीं करने वाले पुलिस अधिकारी विभागीय कार्यवाही की जद में आएंगे। एक जुलाई के बाद जांच के नाम पर पीड़ित को थाने का चक्कर नहीं काटना होगा। इसमें सुपरवीजन करने वाले इंस्पेक्टर व डीएसपी से लेकर आईओ तक की जिम्मेवारी तय की गई है। अगर किसी केस के सुपरवीजन का पावर डीएसपी को मिला है तो उसमें जांच से लेकर कार्रवाई तक पूरी केस की वे मॉनिटर करेंगे। केस के निष्पादन के आधार पर उनकी क्षमता निर्धारित होगी।

छापेमारी से लेकर जब्ती तक का बनाना होगा वीडियो :

नये न्याय संहिता में गिरफ्तारी के लिए छापेमारी करते समय पुलिस को वीडियोग्राफी भी करनी होगी। यह वीडियोग्राफी साक्ष्य के तौर पर न्यायालय में पेश किया जा सकता है। इसके अलावा छापेमारी स्थल पर ही जब्त गैर कानूनी वस्तुओं की जब्ती का वीडियो बनाना होगा। किसी केस में कोई वस्तु घटनास्थल से जब्त होता है तो उसका वीडियो साक्ष्य के तौर पर उपयोग किया जाएगा। हथियार या मादक पदार्थ जब्ती के समय का वीडियो कोर्ट में आईओ को प्रस्तुत करना होगा।

आईजी से लेकर एसएसपी तक पहुंचे प्रशिक्षण शिविर :

पुलिस लाइन में सोमवार से शुरू प्रशिक्षण शिविर में तिरहुत रेंज के आईजी शिवदीप वामन राव लांडे, एसएसपी राकेश कुमार, सिटी एसपी अवधेश दीक्षित, सभी एएसपी, डीएसपी व एसडीपीओ के अलावा इंस्पेक्टर व थानेदार तक को बुलाया गया था। आईजी ने शिविर का उद्घाटन किया। प्रत्येक आईओ को चार दिन का प्रशिक्षण लेना अनिवार्य है। 20 दिन तक प्रशिक्षण शिविर चलेगा।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।