DA Image
30 नवंबर, 2020|5:21|IST

अगली स्टोरी

कोविड किट आपूर्ति में एजेंसी व्यस्त, स्वास्थ्य केंद्रों में पैथोलॉजी जांच ठप

कोविड किट आपूर्ति में एजेंसी व्यस्त, स्वास्थ्य केंद्रों में पैथोलॉजी जांच ठप

चुनाव में कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग की एजेंसी कोविड किट सप्लाई करने में व्यस्त है। इससे जिले के सरकारी अस्पतालों में जांच साम्रियों की आपूर्ति नहीं हो पा रही है। इस कारण सदर अस्पताल समेत लगभग सभी स्वास्थ्य केंद्रों में मरीजों की पैथोलॉजी जांच ठप है। हर दिन सदर अस्पताल से 200 से 250 मरीज बिना जांच कराए लौट जाते हैं। कोरोना संकट के बाद से हालत लगातार बदहाल है। सदर अस्पताल समेत अन्य सरकारी अस्पतालों को जांच किट, केमिकल और दवाओं की आपूर्ति सप्लाई स्वास्थ्य विभाग की एजेंसी बिहार मेडिकल सर्विस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (बीएमआईसीएल) करती है। करीब डेढ़ महीने से इन सामग्रियों की आपूर्ति नहीं कर रही है।

अक्टूबर में 17 दिनों तक सदर अस्पताल में पैथोलॉजी जांच नहीं हो सकी है। महीने की शुरुआत में 12 दिनों तक जांच ठप रही। संकट गहराने के बाद वैकल्पिक व्यवस्था के तहत सदर अस्पताल प्रबंधन की ओर से केमिकल और किट मुहैया कराई गई थी, जो दस दिनों में खत्म हो गई। अब बीते पांच दिनों से फिर से सदर अस्पताल में जांच नहीं हो रही है। पैथोलॉजी विभाग के अनुसार, सदर अस्पताल में केमिकल, वायल (शीशी) और जांच में इस्तेमाल होने वाली किट खत्म है।

सदर अस्पताल प्रबंधन की ओर से जानकारी दी गई कि चुनाव को लेकर हर मतदान केंद्र में कोविड किट भेजी जा रही है। बीएमआईसीएल ही राज्य भर में सभी बूथों पर कोविड किट उपलब्ध कराने का काम कर रही है। इस कारण डेढ़ महीने से जांच सामग्री सदर अस्पताल को उपलब्ध नहीं कराई जा रही है। स्वास्थ्य अधिकारियों के मुताबिक, सामग्रियों की कमी दूर करने के लिए अक्टूबर में कई बार विभाग को पत्र लिखा गया है, लेकिन सामग्री उपलब्ध नहीं कराई जा सकी है।

वैकल्पिक व्यवस्था के भरोसे

स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि मरीजों की जांच हो सके, इसके लिए दूसरे मद से कुछ राशि मुहैया कराकर जांच सामग्री मंगाई जाती है। हालांकि, राशि सीमित रहने के कारण जांच सामग्री की भी कमी हो जाती है।

ये जांच बाधित

लीवर, ब्लड कल्चर, किडनी, यूरिक एसिड समेत कई सामान्य बीमारियों की जांच सदर अस्पताल में नहीं हो रही है। केवल हीमोग्लोबिन व ब्लड शुगर की जांच हो रही है।

बाहर करानी पड़ रही जांच

सदर अस्पताल में हर दिन औसतन तीन सौ से अधिक मरीज इलाज कराने पहुंचते हैं। जांच नहीं होने से कई मरीजों का समुचित इलाज नहीं हो पा रहा है। उन्हें बाहर जांच करानी पड़ रही है या डॉक्टर से अंदाजन दवा लिखवाकर लौट जाना पड़ रहा है।

सीएचसी में भी जांच भगवान भरोसे

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में भी मरीजों की जांच भगवान भरोसे है। औराई सीएचसी में सभी तरह की जांच ठप है। स्वास्थ्य प्रबंधक राहुल कुमार ने बताया कि यहां लैब टेक्नीशियन की प्रतिनियुक्ति नहीं है। दूसरे प्रखंड से जो कर्मी डिप्टेशन में है, उन्हें कोरोना जांच में लगाया गया है। इस कारण यहां कोई जांच नहीं हो रही है। यहां जांच नहीं होने के कारण कुछ केमिकल बचा है। वहीं बंदरा पीएचसी में कोरोना, ब्लड प्रेशर, टीबी और ब्लड शुगर की जांच की जा रही है। स्वास्थ्य प्रबंधक डॉ. ओम प्रकाश ने बताया कि यहां किडनी, ब्लड, हार्ट जांच व एक्स-रे जांच की व्यवस्था नहीं हो सकी है।

बीएमआईसीएल से जांच सामग्री मुहैया नहीं हो रही है। इस कारण सदर अस्पताल में जांच प्रभावित है। वैकल्पिक व्यवस्था के तहत जांच सामग्री पैथोलॉजी लैब को मुहैया कराने के लिए स्वास्थ्य प्रबंधक को निर्देश दिया गया है। यह परेशानी इसलिए हो रही है, क्योंकि बीएमआईसीएल चुनाव में कोविड किट मुहैया कराने में लगी है।

-डॉ. शैलेश प्रसाद सिंह, सिविल सर्जन

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Agency busy in covid kit supply pathology check in health centers stalled