DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बवाल के बाद छावनी में तब्दील हुआ गांव

मोतीपुर प्रखंड की दो पंचायतों में बवाल के बाद जिला प्रशासन ने बुधवार की शाम से धारा 144 (निषेधाज्ञा) लागू कर दी है। कार्यपालक दंडाधिकारी कविता वर्मा ने आदेश जारी किया है। निषेधाज्ञा एक जून की शाम चार बजे तक लागू रहेगी। बवाल की संभावना व अन्य कारणों की वजह से इसे बढ़ाया भी जा सकता है।

वहीं, बवाल के बाद पीड़िता का गांव पुलिस छावनी में तब्दील हो गया है। खौफ से ग्रामीण अपने-अपने घर में दुबके हुए हैं। बाहर निकलने से डर रहे हैं। ग्रामीण एक-दूसरे से बातचीत करने को भी तैयार नहीं हैं। हालांकि, गांव के सभी वर्ग व तबके के लोग आरोपित मो. मेराज को कड़ी सजा दिलाने के हक में हैं।

अक्सर नशे में रहता था आरोपित : ग्रामीणों ने बताया कि आरोपित मो. मेराज अक्सर नशे की हालत में रहता था। जब कमाई कर प्रदेश से घर आता है तो अय्याशी व नशापान करता है। संदिग्ध लोगों के साथ उसका उठना-बैठना था। इस वजह से गांव में उसकी छवि ठीक नहीं थी।

देर रात आरोपित के घर रोड़ेबाजी: दुष्कर्म की एफआईआर के बाद से ही गाव में तनाव व्याप्त हो गया था। इसकी सूचना पर डीएसपी पश्चिमी कृष्ण मुरारी प्रसाद व मोतीपुर थानेदार सुभाष प्रसाद गांव पहुंचे। मामले की छानबीन में जुट गए। लोगों को आरोपित की गिरफ्तारी का आश्वासन दिया। इस पर ग्रामीण मान भी गए। लेकिन, मंगलवार की रात करीब दो बजे अचानक पीड़िता के समर्थकों ने आरोपित के घर पर हमला कर दिया। जमकर रोड़बाजी भी की। इसके बाद आरोपित व अन्य घर छोड़कर भाग निकले।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:After the battle, the village turned into a cantonment