DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › मुजफ्फरपुर › लीची किसानों के लिए एडवाइजरी जारी, ऐसे बढ़ाएं गुणवत्ता
मुजफ्फरपुर

लीची किसानों के लिए एडवाइजरी जारी, ऐसे बढ़ाएं गुणवत्ता

हिन्दुस्तान टीम,मुजफ्फरपुरPublished By: Newswrap
Tue, 13 Apr 2021 07:13 PM
लीची किसानों के लिए एडवाइजरी जारी, ऐसे बढ़ाएं गुणवत्ता

राष्ट्रीय लीची अनुसंधान केंद्र के निदेशक डॉ. शेषधर पांडेय ने मंगलवार को एडवाइजरी जारी करते हुए अप्रैल माह के दूसरे सप्ताह में लीची बागानों में किसानों द्वारा किये जाने वाले कार्यों की जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि लीची के गुणवत्तापूर्ण उत्पादन के लिए पिछले सप्ताह किसान भाइयों को दवाओं के छिड़काव, सिंचाई एवं उर्वरकों के उपयोग की सलाह दी गयी थी। आशा है कि ये कार्य संपन हो गये होंगे। लीची बागान में इस सप्ताह किये जाने वाले कार्यों का विवरण इस प्रकार है।

उन्होंने बताया कि चाइना किस्म के 8-12 वर्ष के पौधों में 350 ग्राम यूरिया एवं 250 ग्राम पोटाश का व्यवहार करें और 15 वर्ष के ऊपर के पौधों में 450-500 ग्राम यूरिया एवं 250 से 300 ग्राम पोटाश का व्यवहार करें। ध्यान रहे कि उर्वरकों का प्रयोग पर्याप्त नमी होने पर ही करें। लीची बोरर कीट से बचाव के लिए थीयाक्लोप्रिड या इमिडाक्लोप्रिड 0.75-1.0 मिली लीटर/लीटर पानी का घोल बनाकर छिड़काव करें। बाग में नमी की निरंतरता बनाएं रखने के लिए सिंचाई नियमित अंतराल से करते रहे एवं मल्च (बिछावन) बिछाकर नमी को संरक्षित करें। विशेष जानकारी के लिए किसान भाई राष्ट्रीय लीची अनुसंधान केन्द्र, मुशहरी मुजफ्फरपुर में व्यक्तिगत भ्रमण अथवा दूरभाष से संपर्क करके लीची से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। दूरभाष का विवरण इस प्रकार है। डॉ. विनोद कुमार प्रधान वैज्ञानिक 9162601559, डॉ. संजय कुमार सिंह, वरिष्ठ वैज्ञानिक 9546891510, डॉ. एस. डी. पाण्डेय निदेशक 9835274642। उन्होंने लीची किसानों के बेहतर और गुणवत्तायुक्त उत्पादन के लिए बागानों की विशेष देखभाल के लिए प्रोत्साहित किया।

संबंधित खबरें