958 AES Affected Families Only 42 Work From MNREGA - 958 एईएस प्रभावित परिवार 42 को ही मनरेगा से काम DA Image
6 दिसंबर, 2019|11:47|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

958 एईएस प्रभावित परिवार 42 को ही मनरेगा से काम

958 एईएस प्रभावित परिवार 42 को ही मनरेगा से काम

एईएस पीड़ित परिवारों का दर्द अब सामने आने लगा है। सरकार ने जब जिले में पांच वर्षों में एईएस से प्रभावित हुए परिवारों की खोज खबर ली है तो दर्दनाक सच सामने आया। रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2014 से 2019 के बीच जिले के 958 परिवार एईएस से प्रभावित हुए। इनमें से मात्र 123 परिवार के मुखिया का मनरेगा जॉब कार्ड मिला था।

चौंकिये मत, एक सच्चाई और भी है कि इनमें से मात्र 42 परिवार को ही मनरेगा से काम मिल पाया था वह भी हर साल 15 दिन। और यह जानकर ताज्जुब होगा कि इनमें से 25 परिवारों के खून पसीने की गाढ़ी कमाई में से 1.68 लाख रुपये मजदूरी का भुगतान नहीं हो सका था। यह सच तब है जब पीड़ित गरीब परिवारों के थे। जुलाई माह में 207 एईएस प्रभावित परिवार में से 84 परिवार ने बताया कि उन्हें मनरेगा योजना की मजदूरी का भुगतान समय से नहीं हुआ। मनरेगा आयुक्त ने इस रिपोर्ट पर अपनी गहरी नाराजगी जतायी है। उन्होंने मनरेगा समन्वयक सह डीडीसी उज्ज्वल कुमार से पूछा है कि ऐसा क्यों हुआ। अब मनरेगा योजना का कार्यान्वयन करने वाले अधिकारियों को इस सवाल का जवाब नहीं सूझ रहा है।

सभी 958 परिवार गरीबी रेखा के नीचे

सर्वे किये गए सभी 958 परिवार गरीबी रेखा के नीचे थे, लिहाजा प्रावधान के अनुसार उनका जॉब कार्ड बनना चाहिए था। इनमें से मात्र 123 परिवारों का ही जॉब कार्ड बना। जिनका जॉब कार्ड बना, उनमें से अधिकांश को काम ही नहीं मिला और जिन्हें काम मिला, उनमें से अधिकांश को मजदूरी का भुगतान ही नहीं हुआ था। मनरेगा आयुक्त के पत्र ने ग्रामीण विकास अभिकरण व मनरेगा अधिकारियों की बेचैनी बढ़ा दी है। मनरेगा आयुक्त को जवाब देने के लिए पांच साल पुरानी फाइलों को खंगाला जा रहा है, लेकिन अब तक इसका जवाब तैयार नहीं हो पाया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:958 AES Affected Families Only 42 Work From MNREGA