ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार मुजफ्फरपुर50 बच्चों ने सीखे कविता लिखने के गुर

50 बच्चों ने सीखे कविता लिखने के गुर

किलकारी बिहार बाल भवन में आयोजित तीन दिवसीय सृजनात्मक लेखन कार्यशाला के पहले दिन सोमवार को बिहार बाल भवन किलकारी पटना से आए आकाश कुमार एवं मुनटुन...

50 बच्चों ने सीखे कविता लिखने के गुर
हिन्दुस्तान टीम,मुजफ्फरपुरMon, 24 Jun 2024 11:00 PM
ऐप पर पढ़ें

मुजफ्फरपुर, प्रमुख संवाददाता।
किलकारी बिहार बाल भवन में आयोजित तीन दिवसीय सृजनात्मक लेखन कार्यशाला के पहले दिन सोमवार को बिहार बाल भवन किलकारी पटना से आए आकाश कुमार एवं मुनटुन राज की विशेषज्ञता में लगभग 50 बच्चों ने कविता लेखन के गुर सीखे और 20 से अधिक कविताओं की रचना भी की। प्रमंडल कार्यक्रम समन्वयक पूनम कुमारी ने बताया कि कार्यशाला का उद्देश्य बच्चों में साहित्यिक रुचि को प्रोत्साहित करना और उनकी लेखन क्षमता को निखारना है। सहायक कार्यक्रम पदाधिकारी स्नेहा रानी ने कार्यशाला के उद्देश्यों पर चर्चा की।

प्रमंडल संसाधनसेवी नेहा कुमारी ने बताया कि बच्चों में साहित्य के प्रति उत्साह और जिज्ञासा को देखते हुए सत्र की शुरुआत की गई। कविता लेखन सत्र के दौरान बच्चों ने खेल गीत 'खेल-खेल के मस्ताने' से कार्यशाला की शुरुआत की। इसके बाद, स्वतंत्र कविता लेखन सत्र में बच्चों ने अपनी कल्पनाशीलता को खुलकर व्यक्त किया। दूसरे सत्र में लेखन कार्यशाला खेल गतिविधियों से प्रारंभ हुआ। इन खेलों का उद्देश्य बच्चों को मानसिक और शारीरिक रूप से सक्रिय रखना था। इसके बाद हेड एंड टेल खेल के आधार पर कविता लेखन की गतिविधि आयोजित की गई, जिसमें बच्चों ने नए अंदाज में कविताएं लिखीं। लेखन कार्यशाला में प्रशिक्षक ने बच्चों को उनके गृह कार्य के बारे में बताया, जिससे वे अपने घर पर भी साहित्यिक गतिविधियों में संलग्न रह सकें।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।