DA Image
4 मार्च, 2021|6:36|IST

अगली स्टोरी

‘कॉरपोरेट कंपनियों के हित में बनी है कृषि कानून

default image

केंद्र सरकार के नये कृषि कानूनों के खिलाफ अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के आह्वान पर बुधवार को कंपनीबाग रोड स्थित शहीद खुदीराम बोस स्मारकस्थल पर चल रहा अनिश्चितकालीन धरना 42 वें दिन भी जारी रहा। कार्यक्रम की अध्यक्षता गांधी शांति प्रतिष्ठान के पूर्व राष्ट्रीय सचिव सुरेन्द्र कुमार ने की। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार कृषि कानूनों को रद्द करने की बात कहकर धोखा देना चाहती है, जबकि यह तीनों कानून कॉरपोरेट कंपनियों के हितों के लिए बनायी गई है। तीनों कृषि कानूनी किसी भी नजरिये से किसानों के हित में नहीं है।

मौके पर काशीनाथ सहनी, मो. इदरीस, मदन प्रसाद, अंकित आनंद, डॉ. बीके प्रलयंकर, उमाकांत कुमार, मो. सरफराज अंसारी, गोविंद कुमार, सदाम हुसैन, मो. अनवर हुसैन, पवन कुमार चौधरी, नवल किशोर राय व सुबोध कुमार आदि ने भी अपनी बातें रखीं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: 39 Agricultural law is made in the interest of corporate companies