DA Image
3 दिसंबर, 2020|7:26|IST

अगली स्टोरी

सूबे में दूसरे चरण के 34.33 फीसदी प्रत्याशी दागी

सूबे में दूसरे चरण के 34.33 फीसदी प्रत्याशी दागी

सूबे में तीन नवंबर को दूसरे चरण का मतदान होना है। मुजफ्फरपुर जिले की भी पांच विधानसभा सीटों पर वोट डाले जाएंगे। इसके लिए 95 प्रत्याशी मैदान में अपना भाग्य आजमा रहे हैं। इनमें से 34.73 फीसदी यथा 33 उम्मीदवारों पर आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं। कई पर आईपीसी की गंभीर धाराओं में केस दर्ज है। सूबे में दूसरे चरण के 34.33 फीसदी उम्मीदवारों पर आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं, जो मुजफ्फरपुर के दूसरे चरण के उम्मीदवारों से 0.40 फीसदी कम है। पूरे बिहार में 502 उम्मीदवारों पर विभिन्न थानों में केस दर्ज है। नामांकन के समय उम्मीदवारों की ओर से दिए शपथ पत्र व इलेक्शन वॉच की रिपोर्ट से यह जानकारी सामने आयी है।

दूसरे चरण में मुजफ्फरपुर के साहेबगंज, बरुराज, पारू, कांटी व मीनापुर विधानसभा क्षेत्र में तीन नवंबर को वोट डाले जाएंगे। इसमें साहेबगंज में आठ, बरुराज व कांटी में सात-सात, पारू में छह और मीनापुर के पांच उम्मीदवार पर कई धाराओं में केस दर्ज है। इनमें आरजेडी के चार, बीजेपी के दो, वीआईपी व जदयू के एक-एक प्रत्याशी भी शामिल हैं। राष्ट्रीय व क्षेत्रीय पार्टी के उम्मीदवारों के अलावा आधा दर्जन निर्दलीय प्रत्याशी भी हैं, जिनपर आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं। कुछ उम्मीदवार पर एक दशक पूर्व के केस हैं, जो कोर्ट में लंबित हैं। इसमें ट्रायल जारी है। कई कांडों में पुलिस ने अबतक चार्जशीट भी दाखिल नहीं की है।

नामांकन के बाद पुलिस ने किया था गिरफ्तार :

नामांकन के दौरान आपराधिक कांडों को लेकर मुजफ्फरपुर पुलिस ने कलेक्ट्रेट परिसर से आधा दर्जन उम्मीदवारों को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेजा था। इनमें औराई से आफताब आलम व अखिलेश यादव, कांटी से अनय कुमार व अंशु कुमार, मीनापुर से कुमारी भारती उर्फ रेणु भारती और गायघाट से दीपक ठाकुर को पुलिस ने पकड़ा था। जांच के दौरान इनकी जमानत टूटी हुई पायी थी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:34 33 percent candidates of second phase tainted in the state