DA Image
2 नवंबर, 2020|12:13|IST

अगली स्टोरी

30 लाख फिरौती के लिए अगवा मेहसी के पार्षद यादवनगर से बरामद

default image

मुजफ्फरपुर के भगवानपुर में यादवनगर से मेहसी नगर पंचायत के वार्ड 14 के अपहृत पार्षद प्रकाश कुमार उर्फ धर्मेद्र कुमार को शनिवार की शाम पुलिस ने सकुशल बरामद कर लिया। साथ ही मौके से मुख्य अपहर्ता समेत चार को दबोचा है। इनमें एक महिला भी शामिल है। मुजफ्फरपुर की सदर व पूर्वी चंपारण की मेहसी पुलिस ने संयुक्त रूप से छापेमारी की। अपहर्ताओं ने वार्ड पार्षद को किराये के कमरे में बंधक बनाकर रखा था। मेहसी पुलिस ने वार्ड पार्षद व गिरफ्तार अपहर्ताओं को मेहसी ले गई। चकिया एसडीपीओ संजय कुमार ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि चारों अपहर्ताओं से गहन से पूछताछ की जा रही है। चारों अपना बयान बार-बार बदल रहे हैं। पूछताछ पूरी होने के बाद ही पूरी घटना का खुलासा हो सकेगा।

वहीं मेहसी थानेदार अवनिश कुमार ने बताया कि अपहृत पार्षद हनी ट्रैप के शिकार हुए हैं। उन्हें पारू की रिंकू देवी ने कॉल कर बुलाया था। यादवनगर के गेट पर पहुंचे थे। वहां से पारू के ही सुशील कुमार, विकास कुमार, रिंकू देवी और बोचहां के सोनू कुमार ने अगवा कर लिया। शाम में अपहर्ताओं पार्षद को अगवा कर रिंकू देवी के किराये के मकान में बंधक बना रखा था। गिरफ्तार अपहर्ताओं के पास से चाकू मिले हैं।

चार हजार रुपये लेकर निकले थे मुजफ्फरपुर के लिए :

प्रकाश कुमार के बड़े भाई निरंजन कुमार ने पुलिस को बताया कि शुक्रवार की दोपहर तीन बजे प्रकाश मुजफ्फरपुर के लिए निकले थे। चार हजार रुपये भी लिए थे। कहा था कि लेट होने पर एक रिश्तेदार के घर रुक जाएंगे। पार्षद अपनी बाइक से अकेले निकले थे। छापेमारी के दौरान पुलिस बाइक बरामद नहीं कर सकी।

रात नौ बजे अपहर्ताओं ने मांगी 30 लाख फिरौती:

निरंजन कुमार ने बताया कि शुक्रवार की रात नौ बजे एक मोबाइल नंबर से घर के नंबर पर कॉल आई। कॉल करने वाले ने कहा कि प्रकाश उनके चंगुल में है। उन्हें जिंदा चाहते हो तो 30 लाख रुपये फिरौती दो। कुछ देर बाद जगह की जानकारी दूंगा। निरंजन ने बताया कि इस कॉल पर वह चौंक गए। इसके बाद भाई की खोजबीन में जुट गए।

मेहसी पुलिस ने दिखायी तत्परता :

निरंजन ने घटना की जानकारी मुख्य वार्ड पार्षद अखलाक अहमद को दी। इसके बाद अखलाक अहमद ने इसकी जानकारी मेहसी थाने के प्रभारी अवनीश कुमार दी। थानेदारी प्रारंभिक जानकारी लेने के बाद छानबीन में जुट गए। सर्विलांस सेल की मदद से मुजफ्फरपुर पहुंचे, लेकिन देर रात तक अपहर्ताओं की लोकेशन बदलती रही।

यादवनगर में मिली लोकेशन :

शनिवार की दोपहर को पुलिस को मुजफ्फरपुर के सदर थाना के भगवानपुर स्थित यादवनगर में लोकेशन मिली। इसके बाद शाम साढ़े चार बजे सदर व मेहसी पुलिस ने संयुक्त रूप से छापेमारी की और वार्ड पार्षद को बरामद किया।

2019 में प्रकाश बने पार्षद :

प्रकाश कुमार 2019 में वार्ड पार्षद बने। इसके पहले वे गुजरात में एक निजी कंपनी में काम करते थे। वर्ष 2009 में उसकी शादी हुई थी। एक लड़का (5) व एक लड़की (7) है। उनके भाई ने बताया कि किसी से कोई दुश्मनी नहीं है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:30 lakh extortion recovered from Yadav Nagar councilor of Mehsi