DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एसकेएमसीएच में 18 और केजरीवाल में एक मौत

एसकेएमसीएच में 18 और केजरीवाल में एक मौत

बच्चों पर चमकी-तेज बुखार का कहर जारी है। सोमवार को सुबह से शाम तक 40 पीड़ित बच्चों को एसकेएमसीएच व केजरीवाल अस्पताल में भर्ती कर एईएस के तय प्रोटोकॉल के तहत इलाज किया जा रहा है। वहीं, दोनों अस्पतालों में भर्ती 19 बच्चों की मौत हो गई है। एसकेएमसीएच में 18 और केजरीवाल में एक मौत हुई। मरीजों की संख्या लगातार बढ़ने पर एसकेएमसीएच में चौथे पीआईसीयू को भी खोल दिया गया है। पिछले दस दिनों में 131 पीड़ित सामने आ चुके हैं। इसमें 56 का आंकड़ा सोमवार का है। इससे महकमे में हड़कंप मचा हुआ है। एसकेएमसीएच की भी स्थिति गमगीन थी।

एसकेएमसीएच में सुबह से रात तक मची चीख-पुकार: एसकेएमसीएच में कांटी शहबाजपुर की तीन वर्षीय सबाना खातून, मीनापुर मुस्ताफापुर की तीन वर्षीय रूब्बी कुमारी, मोतिहारी शहर के पांच वर्षीय साकेत कुमार, अहियापुर बहादुरपुर की आठ वर्षीय ज्योति कुमारी, माधोपुर हथौड़ी की चार वर्षीय काजल कुमारी, सीतामढ़ी रून्नीसैदपुर की दस वर्षीय ज्योति कुमारी, अहियापुर मुस्तफापुर के दस वर्षीय राहुल कुमार, कुढ़नी केसापुर की डेढ़ वर्षीय सैयशा, शिवहर बेलसन की तीन वर्षीय सुचिता, मीनापुर की तीन वर्षीय प्रिया कुमारी, वैशाली हरिवंशपुर गांव की सात वर्षीय रूपा कुमारी, मीनापुर हरपुर की पांच वर्षीय प्रियांशु कुमारी, पूर्वी चंपारण के पकड़ीदयाल के पांच वर्षीय सोनू कुमार, बरुराज पगहिंया की पांच वर्षीय फरीदा कुमारी, सीतामढ़ी के बेलसंड के डेढ़ वर्षीय विराज मुखिया की मौत हो गयी। देर रात सरैया गोपीनाथपुर गांव के नौ वर्षीय राजा बाबू, सीतामढ़ी के नौ माह के कन्हाई कुमार व सकरा की चार वर्षीया सीता कुमारी की मौत हो गई। रातभर पीआईसीयू के पास अफरातफरी मची रही। वहीं, केजरीवाल अस्पताल में कांटी सोनवर्षा की साढ़े तीन वर्षीया रचना कुमारी ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया।

तीन पीआईसीयू फुल खोला गया चौथा

चमकी बुखार के प्रकोप को देखते हुए सोमवार को एसकेएमसीएच में चौथे पीआईसीयू को भी खोल दिया गया। पीआईसीयू-1 में आठ, पीआईसीयू 2 में छह व पीआईसीयू 3 में दस बेड हैं। सोमवार को तीनों पीआईसीयू में 24 बेड पर तीस बच्चों केा रखकर इलाज किया जा रहा था। मरीजों के आने का सिलसिला चालू था। दोपहर में मरीजों की संख्या बढ़ने से आईसीयू को खाली कर चौथा पीआईसीयू वार्ड बनाया गया।

बेड बढ़ने से मरीजों को मिली सुविधा

इधर एसकेएमसीएच अधीक्षक डॉ सुनील कुमार शाही ने बताया कि दो पीआईसीयू पहले से ही चालू थे। दोनों ने 14 बेड हैं। सोमवार को अचानक 40 से अधिक बच्चों को भर्ती कराया गया। ऐसे में चौथे पीआईसीयू को खोलने की जरूरत आन पड़ी। तीसरे व चौथे वार्ड में 20 बेड हैं। कुछ बच्चे की हालत में सुधार होने पर जेनरल वार्ड में शिफ्ट कर उनका इलाज किया जा रहा है।

अस्पताल से हर आधे घंटे पर निकला शव

एसकेएमसीएच में सोमवार को भयावह स्थिति बनी रही। सुबह से ही चमकी बुखार से पीड़ित बच्चे आने लगे। सुबह 5 बजे से 10 बजे तक 36 बच्चे अस्पताल में पहुंचे। बच्चों की संख्या अचानक बढ़ने से इमरजेंसी से पीआईसीयू तक अफरातफरी मची रही। वहीं, हर आधे घंटे पर पीआईसीयू से एक के बाद एक कर 19 मासूमों का शव निकलता रहा। इतने बच्चों की जिंदगी जाती देख हर किसी की आंखों से आंसू टपक रहे थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:18 deaths in SKMCH and one in Kejriwal