DA Image
30 सितम्बर, 2020|2:34|IST

अगली स्टोरी

शेड को इलेक्ट्रिक कार्य भार 10 माह बाद भी नहीं

default image

कोरोना काल में जहां केंद्र व रेलमंत्रालय विभाग ने रेलवे को निजीकरण करने की ठानी है, वहीं इसे सवांरने को लेकर गत वर्ष जारी किए गए अपने ही आदेशों व निर्देशों तथा अश्वासनों को भी भूल बैठी है। यही कारण है कि करीब दस माह बीत गए, लेकिन रेलमंत्री पीयुष गोयल द्वारा जारी आदेश व निर्देश का पत्र पर अब तक कोई असर नहीं दिखा। और न ही पूर्व रेलवे डीजल शेड जमालपुर को अतिरिक्त इलेक्ट्रिक इंजन मेमो व टावर कार का नया कार्य-भार ही मिल पाया है।

अब चूंकि रेलवे बोर्ड, नई दिल्ली द्वारा देशभर के डीजल लोको (इंजन) को सरपल्स करने तथा पीओएच बंद करने जैसी फरमान जारी किया है, तो पूर्व रेलवे डीजल शेड जमालपुर के भी बंद होने की आसार दिखने लगे हैं। अगर दिसंबर तक शेड को इलेक्ट्रिक लोको का कार्य-भार नहीं मिलता है तो आने वाले नए साल में यह शेड सिर्फ एक शोभा की वस्तु बनकर रह जाएंगी। बता दें कि रेलवे बोर्ड के मेक्नीकल सचिव ए. राजा लक्ष्मी ने 30 जुलाई को निर्गत पत्र में डीजल लोको को आगामी 30 सितंबर तक सरपल्स करने तथा वर्तमान में लोको का पीओएच बंद करने का आदेश जारी किया है। इससे जहां डीजल शॉप के कार्यरत कर्मियों में खलबली मची हुई है। वहीं रेल अधिकारियों से लेकर शहर की राजनैतिक पार्टियों में चर्चा का विषय बना हुआ है।

रेलमंत्री ने दीपोत्सव पर ही दिया था जमालपुरवासियों को अश्वासन : पूर्व रेलवे डीजल शेड जमालपुर में डीजल लोको मेंटनेंस का कार्य जब धीरे धीरे घटायी जा रही थी, तभी भारी संख्या में कर्मचारियों का भी स्थानांतरण शुरू हो गया था। इसे लेकर रेलवे कर्मचारियों व यूनियनों तथा शहरवासियों में भारी आक्रोश व्याप्त हो गया था। ईस्टर्न रेलवे मेंस यूनियन (ओपन लाइन) के सचिव केडी यादव की टीम ने बिहार सरकार के ग्रामीण कार्य मंत्री सह जमालपुर विधायक शैलेश कुमार से मुलाकात कर शेड को बचाने की मुहिम छेड़ी थी। तथा मंत्री महोदय ने इस मांग को गंभीरता से लिया और भारत सरकार के रेल और वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल को पत्राचार किया था। पीयूष गोयल ने भी इस पत्र मांग को जायज मानते हुए दीपोत्सव के मौके पर डीजल शेड जमालपुर में अतिरिक्त इलेक्ट्रिक इंजन मेमो व टावर कार का मेंटनेंस की अनुमति दे दी थी।लेकिन अबतक न तो डीजल शेड को इलेक्ट्रिक इंजन मेमो और टावर कार का अतिरिक्त कार्य-भार मिला है और न ही शेड को इलेक्ट्रिक शेड बनाने की दिशा में कोई कवायद दिख रही है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Shed does not have electric work load even after 10 months