DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्याऊ का दूषित पानी पी रहे जमालपुर के लोग

प्याऊ का दूषित पानी पी रहे जमालपुर के लोग

नगर परिषद की ओर से पेयजल की सुविधा को लेकर हर साल प्याऊ का निर्माण कराया जाता है लेकिन प्याऊ की टंकी की सफाई नहीं होने से लोग दूषित पानी पी रहे हैं। इससे बीमारी फैलने का डर लोगों में बना रहता है।

शहर के कुछ ऐसे भी वार्ड हैं जहां के सरकारी विद्यालयों में एमडीएम प्याऊ के दूषित पानी से बनता है। नगर परिषद प्रशासन की ओर से पेयजल की सुविधा के लिए शहर के वार्डों में लगभग 100 प्याऊ का निर्माण कराया गया है। इसमें रोज पानी भरा जाता है लेकिन सफाई नहीं करायी जाती है। इसके कारण टंकियों में काई एवं गंदगी जम गई है। टंकियों की नियमित सफाई की व्यवस्था नगर परिषद प्रशासन की ओर से नहीं की गयी है। उल्लेखनीय है एक प्याऊ के निर्माण पर लगभग 1.62 लाख का खर्च आता है।

बोले शहरवासी : शहरवासी ऋषभ कुमार ने बताया कि नगर परिषद की ओर से से प्याऊ का तो निर्माण करा दिया गया लेकिन टंकी सफाई की व्यवस्था नहीं करायी गई है। लोग दूषित पानी पीने को विवश हैं। अमित झा ने कहा कि प्याऊ निर्माण के समय ही टंकी सफाई की भी व्यवस्था की जानी चाहिए। लाखों खर्च के बाद भी लोग दूषित पानी पी रहे हैं। इससे बीमारी होने का भी खतरा है। शहरवासी रोहित कुमार ने कहा कि एक तरफ स्वच्छता अभियान चलाया जा रहा है तो दूसरी ओर पेयजल की स्वच्छता पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। टंकी की सफाई 15 दिनों में हो इस तरह की व्यवस्था की जानी चाहिए। सुमन कुमार ने बताया कि कुछ वार्ड के सरकारी स्कूलों में एमडीएम प्याऊ के ही दूषित पानी से बनाया जाता है। बच्चे बीमार हो सकते हैं। इसलिए नगर परिषद को टंकी सफाई के लिए जल्द व्यवस्था करना चाहिए। इसी तरह से शहर के कई लोगों ने टंकी की सफाई कराने की मांग की। लोगों ने कहा कि टंकी की सफाई नहीं होने से वे गंदा पानी पीने के लिए विवश हैं। इसके कारण हमेशा बीमारी फैलने का खतरा बना रहता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:people drinking contaminated water