DA Image
1 नवंबर, 2020|4:13|IST

अगली स्टोरी

बैनर देख मायूस हो रहे लोग लिखा है, क्या गलती थी मेरी

बैनर देख मायूस हो रहे लोग लिखा है, क्या गलती थी मेरी

दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान पुलिस कार्रवाई के विरोध भड़के जनाक्रोश और उपद्रव के बाद शहर की स्थिति सामान्य हो गई है। बाजार में आम दिनों तक चहल-पहल है। लेकिन लोगों में अब भी क्षोभ है। चुनाव के बाद जीत-हार की चर्चा की जगह प्रतिमा विसर्जन के दौरान फायरिंग और लाठी चार्ज की चर्चा हो रही है।

फायरिंग में गोली लगने से मरे अनुराग के मोहल्ले बेकापुर लोहापट्टी में एक बैनर लगा है। बैनर पर अनुराग के मुस्कुराते तस्वीर के नीचे लिखा है-क्या गलती थी मेरी इसे देख लोगों को 26 अक्टूबर की रात की खौफनाक तस्वीर उभर आती है। लोग चर्चा करने लगते हैं कि नाहक ही निर्दोष मारा गया। प्रतिमा विसर्जन के दौरान फायरिंग और उसके बाद शहर में हुए उपद्रव को लेकर मंुगेर अब भी सुर्खियों में है। 2005 में तत्कालीन एसपी केसी सुरेन्द्र बाबू एवं 6 पुलिस कर्मियों के बारूदी सुरंग विस्फोट में शहीद होने पर मंुगेर जिस तरह राष्ट्रीय स्तर सुर्खियों में कई दिनों तक रहा था। उसी तरह अब भी मंुगेर सुर्खियों में है। उस वक्त नक्सलियों के खिलाफ तो इसबार पुलिस के खिलाफ आक्रोश है। कई टीवी चैनेल के पत्रकार यहां कवरेज के लिए आ रहे हैं। दीनदयाल चौक को विशेष तौर पर फोकस किया जा रहा है। इसी जगह 26 अक्टूबर की रात दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान फायरिंग की गयी थी। जिसमें एक युवक अनुराग की मौत हो गई थी। गुरुवार को शहर में हुए उपद्रव के बाद शहर में जगह-जगह पुलिस तैनात है। गोली कांड की जांच भी चल रही है। लोगों की नजर जांच पर टिकी है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:People are feeling disheartened after seeing the banner what was my fault