Litter being made to thumb impression prisoners in Munger jail - मुंगेर जेल में अंगूठा छाप कैदियों को बनाया जा रहा साक्षर DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुंगेर जेल में अंगूठा छाप कैदियों को बनाया जा रहा साक्षर

मुंगेर जेल में बंद अंगूठा छाप कैदियों को साक्षर करने की पहल मंडल कारा में शुरू किया गया। इसके तहत जेल में बंद कैदियों को साक्षर करने के लिए हर दिन दो घंटे का क्लास चलाया जा रहा है। कैदियों को साक्षर करने की जिम्मेदारी जेल में बंद आजीवन काराबार का सजा काट रहे बंदी विजय यादव को दी गयी है। जो कैदियों को साक्षर करने में लग गए है।

30 कैदियों ने लिया नामांकन : मुंगेर जेल में दर्जनों अनपढ़ कैदी है। जो पढ़ाई-लिखाई बात दूर है, हस्ताक्षर भी नहीं करना जानते है। ऐसे अंगूठा छाप कैदियों को साक्षर बनाने के लिए पढ़ाई की व्यवस्था की गयी है। जेल में बंद 30 कैदियों का नामांकन लिया गया है। जेल प्रशासन द्वारा बताया गया कि जेल में सर्वें किया जा रहा है कि, कितने कैदी अनपढ़ और अंगुठा छाप है। ऐसे कैदियों की सूची तैयार कर उसे शिक्षित करना जेल प्रशासन की जिम्मेदारी होगी। इन कैदियों के लिए जेल में ही पढ़ाने की व्यवस्था की गयी है। इसके लिए प्रतिदिन अपराह्न 2 बजे से अपराह्न 4 बजे तक क्लास चलाया जा रहा है। जेल में बंद सजा बार बंदी विजय यादव द्वारा कैदियों को साक्षर किया जा रहा है। जेल प्रशासन द्वारा बताया गया कि कैदियों को ना सिर्फ हस्ताक्षर करना सिखाया जा रहा है। बल्कि वर्णमाला की भी पूरी जानकारी दी जा रही है। ताकि वह अपने काम की चीज को आसानी से पढ़ सके। इतना ही नहीं उन्हें गिनती भी सिखाया जा रहा है।

जेल में अंगूठा छाप कैदी रहने पर होगी कार्रवाई : जेल आईजी ने निर्देश दिया है कि जेल में जितने भी अनपढ़ और अंगूठा छाप बंदी है, उसे साक्षर किया जाए। इसके लिए जेल अधीक्षक को कहा गया कि वे अपने जेल में बंद अंगूठा छाप कैदियों की पहचान कर सूची तैयार करें और उन्हें साक्षर बनने के लिए प्रेरित करें। अनपढ़ कैदियों को साक्षर बनाने के लिए जेल के अंदर ही उनकी पढ़ाई की व्यवस्था की जाए। ताकि जेल से बाहर निकलने पर कैदी साक्षर रहें। इसके बाद जेल आईजी खुद शिक्षण व्यवस्था की जांच जेल में करेंगे। अगर कैदी अंगूठा छाप पाया गया, तो जेल प्रशासन पर कार्रवाई की जायेगी।

कहते हैं जेल अधीक्षक : जेल अधीक्षक जलज कुमार ने बताया कि आईजी के निर्देश पर असाक्षर कैदियों को साक्षर करने के लिए पढ़ाई की व्यवस्था की गयी है। दो घंटे का क्लास कैदियों का लिया जा रहा है। 30 कैदियों का नामांकन लिया गया है। जो भी कैदी असाक्षर होंगे, सभी को साक्षर किया जायेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Litter being made to thumb impression prisoners in Munger jail