DA Image
24 जनवरी, 2021|11:22|IST

अगली स्टोरी

बायोमैट्रिक मशीन से हाजरी बनाने को लेकर अफरातफरी

बायोमैट्रिक मशीन से हाजरी बनाने को लेकर अफरातफरी

जमालपुर | निज प्रतिनिधि

2021 के पहले दिन की सुबह रेल इंजन कारखाना कर्मियों और कारखाना प्रशासन के लिए परेशानी का सबब बनकर आया। कारखाना प्रशासन ने रेलकर्मियों की हाजरी बायोमेट्रिक मशीन से लिए जाने का आदेश ट्रायल के रुप में दिया था। जो कारखाना प्रशासन को महंगा पड़ गया। सुबह की पहली किरण के साथ ही करीब 7 हजार रेलककर्मी कारखाना पहुंचे, तथा अपने-अपने शॉप में जाने के पहले कारखाना प्रशासन द्वारा लगाए गए छह जगहों पर बायोमेट्रिक मशीनों से हाजरी बनाने में जुट गए। समय पर हाजरी बनाने को लेकर चंद मिनटों में ही मारामारी शुरू हो गया। एक साथ बायोमेट्रिक मशीन स्थल पर पहुंचाने को लेकर भी अफरातफरी की स्थिति मच गयी।

सीमित स्थलों पर हाजरी को लेकर रेलकर्मियों हंगामा शुरू कर दिया। शोर-शराबा की सूचना मिलते ही कारखाना प्रशासन और ईआरएमयू के प्रतिनिधिगण घटना स्थल पहुंचे और परेशानियों को देखते हुए फिलहाल बायोमेट्रिक अटेंडेंस लेने पर रोक लगाने की मांग की गयी। हालांकि कारखाना प्रशासन ने भी अगले आदेश तक रोक लगाने पर मुहर लगा दी है। रेलकर्मियों की संख्या के अनुसार जगहों व मशीनों की संख्या बढ़ाने का दबाव ईस्टर्न रेलवे मेंस यूनियन (ईआरएमयू), शाखा जमालपुर के सचिव मनोज कुमार ने बताया कि जमालपुर कारखाने में लगभग 7 हजार कर्मचारी कार्यरत है। कर्मचारियों की हाजरी अंग्रेजों के जमाने से ही मैनुअल पद्धति यानि कार्ड पंचिंग से ली जाती रही है। हालांकि कुछ वर्ष पूर्व कारखाने के एमटीएस और बीएलसी शॉप के करीब 600 कर्मचारियों का हाजरी बायोमेट्रिक मशीन से लेने का सिलसिला जारी है। चूंकि सीमित शॉप में सीमित कर्मचारियों की हाजरी मशीन से एक साथ बनाने में कोई परेशानी नहीं आयी थी। लेकिन अब कारखाना प्रशासन ने नए साल में सभी शॉपों के कुल 7 हजार कर्मचारियों की हाजरी बनाने का आदेश बायोमेट्रिक मशीन से दे दिया है। इसके लिए प्रशासन ने कारखाना गेट संख्या नंबर एक, गेट संख्या छह, हेल्थ यूनिट, डीजल पीओएच शॉप, क्रेन शॉप और बीएलसी शॉप में सुविधा दी है। लेकिन मात्र छह जगहों पर हजारों की संख्या में कर्मचारियों का मशीन से एक साथ हाजरी बनना मुश्किल है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Fraud on making hagiography with biometric machine