DA Image
24 नवंबर, 2020|3:08|IST

अगली स्टोरी

कचरा प्रबंधन योजना पर ग्रहण

default image

सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में भी शहरों की तर्ज पर कचरा प्रबंधन जैसी महत्वाकांक्षी योजना को उतारने की जिम्मेदारी पंचायतीराज विभाग को वर्ष 2019 में सौंपी थी। उद्येश्य था गांव को भी शहरों की तरह चकाचक बनाना।

जहां हर गलियों की प्रतिदिन साफ सफाई हो, ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव के साथ साथ हर रोज लोगों के घरों से निकलने वाले कचरे का उठाव सुनिश्चित कर उसे डंपिंग ग्राउंड तक पहुंचाया जा सके। परंतु परिस्थितियां विपरीत होते ही योजना फाइलों में ही दबकर रह गई। और ग्रामीणों के स्वच्छ भारत का सपना यहां धरा का धरा ही रह गया। इस संबंध में बीडीओ राजीव कुमार ने बताया कि पंचायतों में कचरा प्रबंधन का कार्य कोरोना के कारण प्रभावित हुआ था। अब नए सिरे से योजना को धरातल पर उतारा जाएगा। बताया कि योजना के सफल क्रियान्वयन को लेकर कई पंचायतों में डस्टबीन का भी वितरण करवाया गया था। अब चुनाव भी समाप्त हो गया है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Eclipse on waste management plan