DA Image
19 अक्तूबर, 2020|3:39|IST

अगली स्टोरी

श्रद्धालुओं ने की मां दुर्गा की आरती


श्रद्धालुओं ने की मां दुर्गा की आरती

1 / 2शारदीय नवरात्र के दूसरे दिन रविवार को भगवती के दूसरे स्वरूप ब्रह्मचारिणी की पूजा की गयी। सुबह पूजा के बाद शाम में शक्तिपीठ चंडिका स्थान के साथ विभिन्न पूजा केन्द्रों पर मां की आरती के लिए महिलाओं की...


श्रद्धालुओं ने की मां दुर्गा की आरती

2 / 2शारदीय नवरात्र के दूसरे दिन रविवार को भगवती के दूसरे स्वरूप ब्रह्मचारिणी की पूजा की गयी। सुबह पूजा के बाद शाम में शक्तिपीठ चंडिका स्थान के साथ विभिन्न पूजा केन्द्रों पर मां की आरती के लिए महिलाओं की...

PreviousNext

शारदीय नवरात्र के दूसरे दिन रविवार को भगवती के दूसरे स्वरूप ब्रह्मचारिणी की पूजा की गयी। सुबह पूजा के बाद शाम में शक्तिपीठ चंडिका स्थान के साथ विभिन्न पूजा केन्द्रों पर मां की आरती के लिए महिलाओं की भीड़ लगी है। बड़ी दुगा्र मंदिर में सबसे अधिक भीड़ रही। कोरोना संक्रमण को लेकर मंदिर का गेट बंद रहने के कारण महिलाओं ने मां दुर्गा की आरती बाहर से की।

इसबार पूजा केन्द्र सूना-सूना लग रहा है। पूजा केन्द्रों पर इसबार न तो चहल-पहल है और न ही देवी गीत बज रहे हैं। किसी भी पूजा केन्द्र पर लाउडीस्पीकर नहीं लगाया गया है। पहले दो बजे रात ही लोग शक्तिपीठ चंडिका स्थान पूजा के लिए जाने लगते थे। अहले सुबह से ही पूरे शहर में मां चंडिके का जयघोष गूंजता था। लेकिन इसबार सूना-सूना सा लग रहा है। पूजा केन्द्रों पर पूजा के समय भी कम लोग रह रहे हैं। अधिकांश लोग इसबार घर में ही भगवती की पूजा कर रहे हैं। शहर के सभी पूजा केन्द्रों को बंद रखा गया है। लोग बाहर से ही पूजा कर रहे हैं। मूर्तिकार मां दुर्गा की प्रतिमा को अंतिम रूप देने में लगे हैं। सोमवार को भगवती के तीसरे स्वरूप चंद्रघंटा की पूजा की जाएगी।

कोरोना वायरस संक्रमण से मुक्ति के लिए किया जा रहा मानस पाठ

संग्रामपुर। प्रखंड के शीतलाधाम कहुआ में शारदीय नवरात्र के अवसर पर विश्व शांति व कोरोना वायरस संक्रमण से मुक्ति को लेकर श्री रामचरित मानस का पाठ किया जा रहा है। माता शाकंभरी के दरबारर में श्री दुर्गा सप्तशती का पाठ, राम चरितमानस का पाठ किया जा रहा है। रामखेलावन शर्मा, शंभूशरण शर्मा, गोपाल शर्मा आदि ने बताया कि इस बार कोरोना महामारी से पूरे विश्व को मुक्ति मिले इस उद्देश्य श्री रामचरित मानस का पाठ कर रहे हैं। एसं