DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डॉक्टरों की लेटलतीफी पर सीएस का शिकंजा

डॉक्टरों की लेट-लतीफी से जहां सदर अस्पताल मुंगेर के अनेक मरीजों को अपनी जान तक गंवानी पड़ी है वहीं मरीज की आये दिन लेने के देने भी पड़ते हैं। इस ढुलमुल रवैये पर अब सिविल सर्जन डा. पुरुषोत्तम कुमार ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया। मंगलवार को जारी अपने आदेश में उन्होनें सभी चिकित्सकों को ससमय सदर अस्पताल पहुंच कर अपनी ड्यूटी करने की हिदायत दी थी। मगर अपनी आदत से मजबूर चिकित्सक कहां मानने वाले थे।

बुधवार को सिविल सर्जन साढ़े सात बजे ही सदर अस्पताल पहुंच गये और चिकित्सकों के ससमय आने का इंतजार करने लगे। परंतु दो चार लोगों को छोड़कर कहां कोई चिकित्सक फरमान को मानने वाले थे। वे इस आदेश को बकवास समझने की भूल कर बैठे। जब वे डॉक्टरर्स रूम में सुबह 8:05 मिनट के बाद उपस्थिति बनाने पहुंचे तो उपस्थिति पंजी नदारद मिली। बताया गया की उपस्थिति पंजी सीएस कार्यालय में है और उन्हें वहीं जाकर उपस्थिति बनानी होगी। साथ ही समय को भी दर्शाना अनिवार्य है की वे कितने बजे ड्यूटी पर पहुंचे। इस दरम्यान डा. रामप्रीत सिंह अपने निर्घारित समय से आधे घंटे लेट होकर 8:35 बजे और डा. पीएम सहाय एक घंटे पांच मिनट लेट हो कर 9:05 मिनट में अस्पताल पहुंचे।

किया गया शोकॉज: बिना कारण बताये कार्य में लेटलतीफी व अनुपस्थित रहने वाले वैसे एक दर्जन से अधिक कर्मचारियों से शोकॉज किया गया है।

इसकी सूचना राज्य स्वास्थ्य समिति, ईडी, जिलाधिकारी तथा कमिशनर को भी दी जा रही है। वहीं तीन दिन विलंब पर एक दिन का वेतन

कटा जायेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:CS Vise on doctors delays