ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहार मुंगेरअप्रैल माह से शुरू होगा 10 डीजल-इलेक्ट्रिक टावर कार का निमार्ण, कवायद तेज

अप्रैल माह से शुरू होगा 10 डीजल-इलेक्ट्रिक टावर कार का निमार्ण, कवायद तेज

र। इम्तेयाज आलम/निप्र एशिया प्रसिद्ध रेल इंजन कारखाना जमालपुर अपनी कुशलता और दक्षता के दम पर 8 व्हीलर डीजल इलेक्ट्रिक टावर कार (डीईटीसी) का निर्माण...

अप्रैल माह से शुरू होगा 10 डीजल-इलेक्ट्रिक टावर कार का निमार्ण, कवायद तेज
हिन्दुस्तान टीम,मुंगेरWed, 28 Feb 2024 12:31 AM
ऐप पर पढ़ें

जमालपुर। इम्तेयाज आलम/निप्र
एशिया प्रसिद्ध रेल इंजन कारखाना जमालपुर अपनी कुशलता और दक्षता के दम पर 8 व्हीलर डीजल इलेक्ट्रिक टावर कार (डीईटीसी) का निर्माण कार्य अप्रैल माह से शुरू करेगा। टावर कार्य निर्माण शुरू होते ही देश के पटियाला और भुसावल वर्कशॉप के बाद जमालपुर तीसरा कारखाना बन जाएगा। कारखाना प्रशासन ने टावर कार निर्माण में लगने वाले उपकरणों को जुटाने का प्रसास कर रहा है। तथा उम्मीद है अगले माह मार्च तक सभी जरूरी उपकरण कारखाना को मुहैया करा दी जाएगी। इंडियन रेलवे ने जमालपुर कारखाना को ट्रायल के रूप में पहली बार टावर का वर्कलोड दिया है। चूंकि सामाग्री उपलब्ध नहीं होने कारण निर्माण कार्य में हाथ नहीं लग पाया है। लेकिन अब कारखाना परिसर स्थित क्रेन शॉप के कर्मचारी निर्माण में जुट जाएंगे।

साल के अंततक वर्कलोड को पूरा करने का है लक्ष्य: सीडब्लूएम

रेल इंजन कारखाना जमालपुर के सीडब्लूएम सुदर्शन विजय ने बताया कि साल के अंत माह तक करीब दस 8 व्हीलर डीजल इलेक्ट्रिक टावर कार का निर्माण का लक्ष्य रखा गया है। चूंकि सामग्रियों का समय पर उपलब्ध नहीं हो पाया, अन्यथा बीते साल ही दो का निर्माण कार्य पूरा कर लिया जाता। उन्होंने कहा कि बीते वर्ष दिल्ली के प्रगति मैदान में आयोजित अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनी में 8व्हीलर डीजल-इलेक्ट्रिक टावर कार का मॉडल की उत्कृष्ट प्रदर्शन रहा। कारखाना कम समय और गुणवत्तापूर्ण उत्पादन सहित कम लागत पर किसी भी प्रोडक्शन को मूर्त रूप देता है। जरूरत पड़ने पर प्रोडक्डशन में कुछ मॉडिफिकेशन करने में भी हम पीछे नहीं रहते हैं। तकनीकी ज्ञान अर्जित के लिए हमारे यहां इरिमी प्रशिक्षुओं की भी मदद ली जाती है।

क्या है डीजल-इलेक्ट्रिक टावर कार

8 व्हीलर अंडरस्लंग डीजल इलेक्ट्रिक टावर कार (डीईटीसी) एक स्व-चालित इकाई है, जिसका उपयोग आवधिक निरीक्षण के साथ-साथ विद्युतीकृत मार्गों के ओवर-हेड इलेक्ट्रिक ट्रांसमिशन उपकरणों की गश्त और रखरखाव के लिए किया जाता है। इनके अलावा, 'मेक इन इंडिया' डीईटीसी का उपयोग ब्रेक डाउन वाली जगहों को ठीक करने के साथ-साथ क्षतिग्रस्त ओएचई उपकरणों की मरम्मत के लिए भी किया जाता है। तथा 110 की स्पीड से पटरी पर सरपट दौड़ लगाने में सक्षम है।

डीईटीसी हाइटेक सुविधाओं से होती है लैस

ओएचई ब्रेकडाउन की सुविधा के लिए, डीईटीसी सहायक उपकरण ले जाएगा, डीईटीसी में पर्यवेक्षकों और परिचारकों के लिए बैठने का कमरा और रसोईघर भी है, इसे हाई स्पीड डुअल ट्रैक्शन पावर पैक और इसके कंट्रोल से लैस किया गया है, कार के दोनों तरफ ड्राइवर डेस्क के साथ-साथ कंट्रोल क्यूबिकल, ऊंचा मंच, साथ ही एक अवलोकन गुंबद भी प्रदान है, ओवर हेड केबल के परीक्षण के लिए पेंटोग्राफ उपलब्ध है, ओएचई परीक्षण उपकरण के लिए एक कक्ष के साथ-साथ एक कार्य दुकान भी स्थापित की गई है, दुर्घटनास्थल को साफ़ करने के लिए उपकरण और टैकल भी उपलब्ध कराए गए है।

क्या कहते हैं सीपीआरओ

पूर्व रेलवे सीपीआरओ कौशिक मित्रा ने बताया कि डीईटीसी निर्माण को लेकर कारखाना को सामग्रियों को मार्च तक मुहैया करा दी जाएगी। तथा अप्रैल से निर्माण कार्य प्रारंभ कर दिया जाएगा।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें