ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार मुंगेरजल्द ही मुंगेर विश्वविद्यालय में खुलेगी सेंट्रल लाइब्रेरी

जल्द ही मुंगेर विश्वविद्यालय में खुलेगी सेंट्रल लाइब्रेरी

ई पड़ रही है। विश्वविद्यालय सूत्र ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि, कुलसचिव कर्नल ठाकुर ने इस दिशा में अपने व्यक्तिगत प्रयास से आरडी एंड...

जल्द ही मुंगेर विश्वविद्यालय में खुलेगी सेंट्रल लाइब्रेरी
default image
हिन्दुस्तान टीम,मुंगेरThu, 13 Jun 2024 12:30 AM
ऐप पर पढ़ें

मुंगेर। एक संवाददाता
मुंगेर विश्वविद्यालय में जल्द ही केंद्रीय पुस्तकालय खुलेगा, इसकी संभावना बनती दिखाई पड़ रही है। विभिन्न छात्र संगठनों, शिक्षकों एवं शिक्षक संघों द्वारा लगातार की जा रही मांग के साथ-साथ विभिन्न समाचार पत्रों, विशेष रूप से हिन्दुस्तान द्वारा समय-समय पर प्रमुख रूप से केंद्रीय पुस्तकालय सहित अन्य पुस्तकालयों के संबंध में उठाए गए मुद्दों के दबाव में विश्वविद्यालय प्रशासन कुछ करती हुई दिखाई पड़ रही है। विश्वविद्यालय सूत्र ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि, कुलसचिव कर्नल ठाकुर ने इस दिशा में अपने व्यक्तिगत प्रयास से आरडी एंड डीजे कॉलेज, मुंगेर के केमिस्ट्री विभाग के एक हिस्से में केंद्रीय लाइब्रेरी खोलने के लिए जगह का चयन किया है। इसके साथ ही उन्होंने केंद्रीय लाइब्रेरी के लिए जगह सुनिश्चित करने के लिए एक कमेटी भी बनाई है जिसे 15 दिनों के अंदर अपनी रिपोर्ट देनी है। ऐसे में यदि केंद्रीय लाइब्रेरी के लिए कमेटी द्वारा जगह सुनिश्चित कर दिया जाता है तो जल्द ही इस विद्यालय में केंद्रीय लाइब्रेरी की स्थापना हो सकती है।

अभी तक अधिकारियों ने की है हवा- हवाई बातें:

मुंगेर विश्वविद्यालय अपनी स्थापना के 5 वर्षों बाद भी आज तक केंद्रीय पुस्तकालय के लिए तरस रहा है। वहीं, अब तो विश्वविद्यालय में स्नातकोत्तर की पढ़ाई एवं शोध कार्य भी शुरू हो चुके हैं। ऐसे में एक केंद्रीय पुस्तकालय के साथ-साथ विभिन्न स्नातकोत्तर विभागों में भी पुस्तकालय की आवश्यकता है। किंतु, विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने इसकी स्थापना के समय से ही ना तो केंद्रीय पुस्तकालय की स्थापना के लिए और ना ही अब स्नातकोत्तर विभागों में पुस्तकालय की स्थापना के लिए प्रयास किया है। इस दौरान केवल इसकी चर्चा जरूर होती रही है। वास्तविकता यह है कि, अभी तक विभिन्न मौकों पर एवं विभिन्न स्तर पर अधिकारियों ने केवल हवा- हवाई बातें ही की हैं। इस दिशा में पूर्व में कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है। केंद्रीय पुस्तकालय की स्थापना को लेकर विश्वविद्यालय में यदि थोड़ा बहुत प्रयास भी हुआ तो वह वर्तमान कुलसचिव कर्नल विजय कुमार ठाकुर के द्वारा ही हुआ। ऐसे में कुलसचिव के वर्तमान प्रयास से छात्र-छात्राओं में शीघ्र ही केंद्रीय विश्वविद्यालय खुलने की आस जग गई है।

कहते हैं कुलसचिव:

विश्वविद्यालय में स्नातकोत्तर की पढ़ाई के साथ-साथ अब शोध कार्य भी शुरू हो चुके हैं। ऐसे में विश्वविद्यालय में शैक्षणिक विकास के दृष्टिकोण से एक केंद्रीय विश्वविद्यालय की तत्काल सख्त आवश्यकता है। इसी आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए केंद्रीय पुस्तकालय के लिए जगह का चयन करने हेतु एक कमेटी बनाई गई है। कमेटी 15 दिनों के अंदर अपना रिपोर्ट देगी। इसके बाद शीघ्र ही केंद्रीय पुस्तकालय की स्थापना की दिशा में आवश्यक कदम उठाए जाएंगे।

-- कर्नल विजय कुमार ठाकुर, कुलसचिव,

मुंगेर विश्वविद्यालय, मुंगेर

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।