DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बैंकों में ताला लटकने से मचा हाहाकार

बैंकों में ताला लटकने से मचा हाहाकार

युनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन के आह्वान पर 11वें वेतन समझौते की मांग को लेकर बुधवार को जिले भर के सभी सरकारी व निजी बैंक हड़ताल पर रहे। इस दौरान मुंगेर जिले में विभिन्न बैंकों की करीब 100 शाखाएं बंद रहीं। इसके अलावा सभी बैंकों की एटीएम सेवा भी पूरी तरह बंद रही।

एआईबीओसी के संयुक्त सचिव ध्रुव कुमार ने बताया कि एक दिन की बैंक हड़ताल से जिले भर में करीब 130 करोड़ का कारोबार प्रभावित रहा। गुरुवार को भी यह हड़ताल जारी रहेगी। बैंक कर्मचारी सुबह दस बजे ही बैंकों में ताले लगा कर बैनर एवं नारे के साथ सरकार विरोधी नारे लगाये। साथ ही अपनी मांगों की ओर ध्यान देने की बात कही। हड़ताल के कारण लोगों को कैश की समस्या हो गयी।

शहर के बाजार पूरी व्यवस्था पहले दिन ही चरमराई नजर आ रही है। कैश के लिये लोग इधर-उधर घूमते नजर आए। माह के अंतिम दिन हड़ताल से वेतनभोगियों को कुछ ज्यादा मुसीबत हुई। बैंक ने कैश की कोई वैकल्पिक व्यवस्था नहीं की थी। वासुदेवपुर के शैलेंद्र चौधरी ने बताया कि एटीएम बंद रहने के कारण उसे डॉक्टर की फीस और जांच के पैसे देने में भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा।

पेंशनर आशा देवी अपना पेंशन निकालने को जब बैंक गई तो बैंक में ताला लगा पाया। उन्होंने बताया कि उन्हें कल ही मैसेज आया था कि उनका पेंशन अकाउंट में आ चुका है। आम जनों को कल तक परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। हड़ताल महीने के आखिर में पड़ने से बैंक शाखाओं से वेतन की निकासी प्रभावित हुई है, वहीं लगभग सारे एटीएम मशीनें भी प्रभावित हुई है। इसके अलावा शाखाओं में जमा, सावधि जमा का नवीनीकरण, सरकारी खजाने से जुड़े काम, मुद्रा बाजार से जुड़े कार्य इत्यादि अन्य कामों पर इस हड़ताल का असर देखने को मिला। गौरतलब है कि देशभर में करीब 10 लाख बैंक कर्मी इस हड़ताल में भाग ले रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bank lock