DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  मुंगेर  ›  गुरुमहाराज के हृदय स्वरूप शिष्य थे बाबा शाही स्वामी जी
मुंगेर

गुरुमहाराज के हृदय स्वरूप शिष्य थे बाबा शाही स्वामी जी

हिन्दुस्तान टीम,मुंगेरPublished By: Newswrap
Sun, 13 Jun 2021 04:20 AM
गुरुमहाराज के हृदय स्वरूप शिष्य थे बाबा शाही स्वामी जी

जमालपुर | निज प्रतिनिधि

संतमत सत्संग आश्रम नयागांव परिसर में सत्संगियों ने सद्गुरू महर्षि मेंही परमहंस जी महाराज के हृदय स्वरूप प्रमुख ब्रह्मलीन शाही स्वामी जी की 99वीं जयंती समारोह पूर्वक मनायी गयी। सत्संगियों ने विशेष सत्संग का आयोजन किया। साथ ही पुष्पांजलि, भजन, प्रवचन आदि कार्यक्रम में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिए।

मौके पर स्वामी नरेंद्र बाबा ने कहा कि पूज्यपाद शाही स्वामी जी महाराज अपने गुरु महाराज के हृदय स्वरूप महान शिष्य थे। उन्होंने दर्जनों पुस्तकों की रचना की थी। तथा कुप्पाघाट आश्रम भागलपुर का व्यवस्थापक भी बनाए गए थे। आज उनके आदर्श व विचारों को आत्मसात करने की आवश्यकता है। स्वामी गुरुदेव बाबा ने कहा कि गुरु महाराज ने शाही स्वामी जी महाराज को 1946 में गुरु दीक्षा दिए थे। उन्होंने देश-विदेश में कई सत्संग आश्रम की स्थापना की। वे अपने जीवन के अंतिम सांस तक सत्संग की सेवा में करते रहे। मौके पर अर्जुन तांती, सीताराम वैद्य, ओम प्रकाश गुप्ता, राजन कुमार चौरसिया, अभिमन्यु साह, दिवाकर साह, अंबिका तांती, प्रमोद यादव, लालमणि, पवन चौरसिया, उदय शंकर स्वर्णकार, रामानंद मंडल, मनोज तांती, चंदन मंडल, विंदेश्वरी देवी, भामिनी देवी सहित अन्य मौजूद थे।

संबंधित खबरें