At two o clock the caravans of devotees went to Babadham - रात दो बजे ही बाबाधाम को चल पड़ा भक्तों का कारवां DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रात दो बजे ही बाबाधाम को चल पड़ा भक्तों का कारवां

रात दो बजे ही बाबाधाम को चल पड़ा भक्तों का कारवां

बोलबम...बोलबम...हर हर महादेव...ओम नम: शिवाय...भगवान शिव का सबसे प्रिय श्रावण(सावन) मास के चौथे दिन शनिवार को कांवरिया मार्ग दिनभर गुंजायमान रहा।

रात दो बजे से ही कच्चा कांवरिया पथ शिवभक्तों के जयकारे गूंज उठा। बाबा नगरिया दूर है जाना जरूर है, बोलबम का नारा है बाबा एक सहारा है आदि नारे के बीच कांवरिये बढ़ चले जा रहे थे। दोपहर दो बजे गोगाचक धर्मशाला में बिजली नहीं रहने से कांवरिया गर्मी में परेशान थे। मंुगेर जिले में पड़ने वाले 26 किलोमीटर कांवरिया पथ में तीन धर्मशाला गोगाचक मनियां एवं कुमरसार में है। धर्मशाला में सबसे बुरा हाल बिजली की है।

पटना की कांवरिया जूही देवी ने बताया कि धर्मशाला में बिजली नहीं रहने से गर्मी में परेशानी का सामना करना पड़ा। उन्होंने कहा कि कंकड़युक्त बालू से चलने में परेशानी हो रही है। जिला प्रशासन के द्वारा रास्ते में कहीं भी पंडाल नहीं बनाया गया है। धर्मशाला से पहले दुकान या पेड़ के नीचे आराम करना पड़ता है। पटना की अनिमा देवी ने बताया कि गर्म बालू पर पानी छिड़काव की व्यवस्था नहीं की गई है। डीडीसी प्रशांत कुमार ने गोगाचक धर्मशाला का निरीक्षण किया। कुछ कांवरियों ने धर्मशाला के बाहर झरना बंद रहने की शिकायत की।

श्रावणी मेला के चौथे दिन कांवरिया पथ में शिवभक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा। सुबह 10 बजे तक कांवरियों में उत्साह दिखा। बोलबम के नारे के साथ कांवरिये आगे बढ़ रहे थे। लेकिन 11 बजे के बाद उमस भरी गर्मी और तेज धूप से कांवरिये परेशान दिखे। दोपहर में बालू तेज धूप में इतना तप गया कि कांवरियों के पैर में छाले पड़ने लगे। कांवरियों के जत्थे में चल रहे छोटे बच्चे को अभिभावक तौलिए से सिर ढ़ककर तेज धूप से बचाने का प्रयास कर रहे थे। दोपहर में तेज धूप व गर्म बालू के कारण कांवरियों का कारवां थम सा गया। कांवरिये कहीं पेड़ के नीचे तो कहीं दुकानों में आराम कर रहे थे। गर्म बालू पर पानी छिड़काव की व्यवस्था नहीं थी। दोपहर बाद तीन बजे से कांवरियों ने चलना फिर शुरू किया। सबसे ज्यादा परेशानी अधिक उम्र दराज एवं छोटे कांवरियों को हो रही थी। कच्ची पथ के किनारे पेड़ की छांव में कांवरिये दोपहर में आराम करते नजर आए।

कांवरियों की सुरक्षा में यात्रा मार्गों पर चप्पे-चप्पे पर पुलिस का पहरा है। सुरक्षा की दृष्टि से प्रमुख मार्गों पर दिन-रात पुलिस की पेट्रोलिंग की जा रही। संदिग्धों पर नजर रखने के लिए कांवरियों के वेश में भी पुलिस की तैनाती की गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:At two o clock the caravans of devotees went to Babadham