DA Image
20 जनवरी, 2021|12:14|IST

अगली स्टोरी

सौगात 2020: जिले में 84.7 किलोमीटर में लगा केबल तार

default image

मोतिहारी डिविजन में 61.9 किलोमीटर बदला गया जर्जर तार

केबल तार लगाने में 5 करोड़ रुपये हुए है खर्च

जर्जर तार बदलने से बिजली आपूर्ति में हुआ सुधार

आईपीडीएस योजना से बदले गये जर्जर बिजली तार

तस्वीर: मॉट 03, जर्जर तार बदल विद्युत पोल पर लगाया गया केबल तार ।

मोतिहारी। एक संवाददाता

आए दिन बिजली के जर्जर तार से होने वाले दुर्घटनाओं से निजात को लेकर बिजली विभाग ने मोतिहारी डिविजन में ऐसे तारों को बदलकर केबल लगाया है। साथ ही नए उपभोक्ताओं के लिए लिए भी बिजली के नंगे तार के बदले केबल तार के माध्यम से बिजली मुहैया करायी है। इससे ठोकर लगने व आंधी पानी में बिजली का नंगा तार टुटकर गिरने की संभावना लगभग समाप्त हो गयी है। बिजली विभाग ने आईपीडीएस योजना के तहत मोतिहारी डिविजन में 61.9 किलोमीटर जर्जर तार बदलकर केबल तार लगाया गया है। साथ ही बांस-बल्ले के सहारे व नए ट्रांसफार्मर लगाने पर 22.8 किलोमीटर केबल तार लगाए हैं। आईपीडीएस योजना के तहत मोतिहारी डिविजन के मोतिहारी, रक्सौल, चकिया, मधुबन, केसरिया व सुगौली क्षेत्र में जर्जर तार बदलने व नए उपभोक्ताओं के लिए लगाएं गए ट्रांसफार्मर के लिए केबल तार लगाया गया है। इसमें करीब 5 करोड़ रुपये बिजली विभाग ने खर्च किए हैं। इस योजना के लिए शहरी क्षेत्र में श्रीडीसाई व देहाती क्षेत्र के लिए वोल्टास कंपनी को केबल तार लगाने का जिम्मा दिया गया था। वोल्टास कंपनी के द्वारा 1451 किलोमीटर केबल तार लगाया गया है। साथ ही केबल तार लगने से बिजली की चोरी की समस्या भी समाप्त हो गयी है। वहीं लो वोल्टेज सहित वोल्टेज का उतार-चढ़ाव भी समाप्त हो गया है। इस संबंध में परियोजना के एसडीओ आलोक कुमार ने बताया कि शहरी व देहाती क्षेत्रों में बचे नंगे तार को बदलने को लेकर जल्द काम शुरु होगा। इसके लिए विभागीय प्रक्रिया शुरु कर दी गयी है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Saugat 2020 84 7 km of cable wire in the district