DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  मोतिहारी  ›  वरदान बनी बारिश किसानों पर ढाने लगी सितम

मोतिहारीवरदान बनी बारिश किसानों पर ढाने लगी सितम

हिन्दुस्तान टीम,मोतिहारीPublished By: Newswrap
Fri, 26 Jun 2020 11:00 PM
वरदान बनी बारिश किसानों पर ढाने लगी सितम

जिले में वरदान बनी मानसून की बारिश किसानों पर सितम ढाने लगी है। पिछले एक पखवाड़े से हो रही लगातार बारिश से निचले इलाके में पानी का जमाव हो गया है।

किसान खेत की जुताई कर धान रोपनी की जुगत में हैं तबतक बारिश हो जा रही है। इससे किसान मन मसोस कर रह जा रहे हैं। किसानों ने आगात खेती के लिए धान के बिचड़े खेत में तैयार रखे हैं। लेकिन बारिश का कहर रोपनी पर ब्रेक लगा रहा है।

जिले में 25 प्रतिशत हुई धान की रोपनी: जिले में लगातार बारिश से किसान धान की रोपनी में जुटे हैं। कृषि विभाग के अनुसार अभीतक जिले में मात्र 25 प्रतिशत ही धान की रोपनी हुई है। वहीं करीब 84 प्रतिशत धान के बिचड़े का आच्छादन किया गया है। बारिश होने से बिचड़े भी जल्द तैयार हो जा रहे हैं। किसान रोपनी के लिए तैयारी कर रहे हैं तबतक बारिश हो जा रही है। जिले में 1.18 लाख हेक्टेयर में धान रोपनी का लक्ष्य निर्धारित है।

निचले इलाके में रोपनी के बिचड़े डूबे:

निचली भूमि मेंं लगाए गये धान के बिचड़े लगातार बारिश से डूबने भी लगे हैं। किसान बारिश होते देख जल्दी में धान के छोटे छोटे बिचड़ों की रोपनी कर दिये। धान रोपनी के बाद लगातार बारिश से बिचड़े डूबने लगे हैं। हालांकि कड़ी धूप नहीं होने से बिचड़े अभी सुरक्षित हैं।

कहते हैं अधिकारी: डीएओ डॉ. ओंकारनाथ सिंह ने बताया कि लगातार बारिश से धान की रोपनी में तेजी आयी है। जिले में अभी तक 25 प्रतिशत धान की रोपनी हो चुकी है। बारिश से खरीफ खेती को लाभ मिलेगा।

संबंधित खबरें