Practice of pollution free of the Sarisawa river - सरिसवा नदी को प्रदूषण मुक्त करने की शुरू हुई कवायद DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरिसवा नदी को प्रदूषण मुक्त करने की शुरू हुई कवायद

सरिसवा नदी को प्रदूषण मुक्त करने की शुरू हुई कवायद

नेपाल से निकल रक्सौल होकर बहने वाली प्रमुख सरिसवा नदी में प्रदूषण समस्या के स्थायी समाधान के लिए रक्सौल में एफ्लुएंट ट्रीटमेंट प्लांट (ईटीपी) व सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) लगाये जाने के प्रस्ताव का केन्द्रीय जल आयोग, नदी संरक्षण निदेशालय (भारत सरकार) ने अनुमोदन किया है। स्थानीय सामाजिक कार्यकर्ता डॉ. स्वयंभू शलभ के प्रस्ताव का अनुमोदन करते हुए आयोग ने प्रस्ताव को राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन तथा नगर विकास एवं आवास विभाग (बिहार सरकार) को भेजा है। इसकी जानकारी आयोग के निदेशक अजय कुमार सिन्हा ने डॉ. शलभ को भेजे पत्र में दी है। पीएमओ के निर्देश के आलोक में आयोग द्वारा जारी इस पत्र में रक्सौल में सरिसवा नदी पर एफ्लुएंट ट्रीटमेंट प्लांट (ईटीपी) तथा सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) लगाने के सुझाव का स्वागत करते हुए बताया गया है कि भारत सरकार नदियों में हो रहे प्रदूषण को कम करने के लिए प्रतिबद्ध है व इस संबंध में सजगता से काम कर रही है। इस प्रस्ताव को राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन तथा नगर विकास एवं आवास विभाग (बिहार सरकार) को भेजा जा रहा है। इस प्रकार के मामले को मुख्य अभियंता (योजना एवं विकास), केंद्रीय जल आयोग की मंजूरी से जारी किया जाता है।

यहाँ बता दे कि सरिसवा नदी के विषाक्त पानी की जांच के साथ रक्सौल अनुमंडलीय क्षेत्र में पेयजल की जांच करने के संबंध में डॉ. शलभ की अपील पर मुख्यमंत्री ने भी गत 2 मई को जल संसाधन विभाग (डब्लूआरडी) एवं लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग (पीएचईडी) को निर्देश जारी किया था। परन्तु अभी तक ठोस सकारात्मक कदम नहीं उठाया जा सका है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Practice of pollution free of the Sarisawa river