DA Image
21 अक्तूबर, 2020|8:58|IST

अगली स्टोरी

पं. दीनदयाल के विचारों को आत्मसात करने की जरूरत

default image

महात्मा गांधी केंद्रीय विवि के वाणिज्य विभाग व एकात्म मानव दर्शन अनुसंधान व विकास प्रतिष्ठान के संयुक्त तत्वावधान में गुरुवार को राष्ट्रीय वेब संगोष्ठी पं दीनदयाल उपाध्याय और वर्तमान विश्व का आयोजन किया गया। मुख्य वक्ता के रूप में एकात्म मानव दर्शन अनुसंधान व विकास प्रतिष्ठान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. महेश चन्द्र शर्मा ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय के विचारों, संकल्पनाओं और उनके मूल्य व आदर्शों पर विस्तार से प्रकाश डाला। कहा कि इसे आत्मसात करने की जरूरत है। विशिष्ट अतिथि अवध विश्वविद्यालय के आचार्य डॉ. आरके सिंह ने दीनदयाल जी के जीवन संकल्पना, राष्ट्रीय चिंतन व दर्शन की व्याख्या की। केंद्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति एस शर्मा ने पंडित जी के कृतित्व और सामाजिक-आर्थिक और वैश्विक जीवन की वर्तमान प्रासंगिकता को बतलाया । कार्यक्रम का संयोजन वाणिज्य विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. त्रिलोचन शर्मा के द्वारा किया गया। कार्यक्रम संचालन वाणिज्य विभाग के सह-आचार्य डॉ शिवेंन्द्र ने किया। कार्यक्रम के आयोजन में सचिव व वाणिज्य एवं प्रबंधन विभाग के अध्यक्ष प्रो पवनेश कुमार शामिल रहे । धन्यवाद ज्ञापन वाणिज्य विभाग के सह-आचार्य डॉ. रवीश चंद्र वर्मा ने किया। मौके पर प्रो. शिरीष मिश्र, डॉ सुब्रत राय, डॉ सुमिता सिंकू, अवनीश कुमार उपस्थित रहे । कार्यक्रम सह-संयोजक के रूप में डॉ. अंजनी कुमार श्रीवास्तव, डॉ जुगल किशोर दाधीच डॉ अनुपम कुमार वर्मा, डॉ. विमलेश कुमार , डॉ. एम विजय कुमार , डॉ. रश्मि श्रीवास्तव, डॉ. नरेंद्र सिंह, श्याम नंदन आदि थे । कार्यक्रम का आयोजन गूगल मीट ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के माध्यम से किया गया। कार्यक्रम में 10 से अधिक राज्यों के प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Need to assimilate the thoughts of Pt Deendayal