DA Image
21 जनवरी, 2021|11:31|IST

अगली स्टोरी

उम्मीद 2021: जीआईएस पावर सब स्टेशन से होगी बिजली की आपूर्ति

default image

10-10 एमवीए के लगेंगे दो ट्रांसफॉर्मर

6.85 करोड़ की लागत से बन रहा है यह पीएसएस

वीटीएल कंपनी को दिया गया है निर्माण का जिम्मा

अगले साल मार्च में पावर सब स्टेशन हो जाएगा चालू

तस्वीर: मॉट 02, छोटा बरियारपुर में बन रहा नया पावर सब स्टेशन

मोतिहारी। एक संवाददाता

पूर्वी व पश्चिम चंपारण का यह पहला जीआईएस पावर सब स्टेशन का निर्माण हो रहा है। छोटा बरियारपुर स्थित चीनी मिल के पास बन रहा यह पीएसएस पूरी तरह नए टेक्नोलॉजी से बनाया जा रहा है। गैस आइसोलेटेड टेक्नोलॉजी से बन रहे इस पीएसएस में दस-दस एमवीए के दो ट्रांसफार्मर होंगे। हाई पावर के ट्रांसफॉर्मर लगने से बिजली की आपूर्ति निर्बाध रूप से होती रहेगी। जिससे उपभोक्ताओं को सुचारू बिजली आपूर्ति मिलने लगेगी। इसमें मेंटनेंस खर्च भी काफी कम होगा। साथ ही इस ट्रांसफार्मर में समस्याएं बहुत ही कम आएंगी। समस्या आने पर इससे जुड़े फिडर में बिजली की आपूर्ति बहुत ही कम समय में बहाल कर दी जाएगी। यह आईपीडीएस योजना के तहत बनाया जा रहा है। इसके निर्माण में 6.85 करोड़ खर्च होंगे। इसे बनाने का जिम्मा वीटीएल कंपनी का दिया गया है। इसका निर्माण कार्य पूरा होने पर यह पूरी तरह सुरक्षित दिखेगा। इस पावर सब स्टेशन में मजुरहां, छतौनी व बेलिसराय पीएसएस से कंज्यूमर को जोड़ा जाएगा। जिससे इन तीनों पीएसएस के बिजली का लोड कम होगा। लोड कटने के साथ ही इस पीएसएस से जुड़े उपभोक्ताओं को बिजली की आपूर्ति सही रुप से शुरु हो जाएगी। इस पीएसएस का निर्माण कार्य अगले वर्ष मार्च महीने तक पूरा होने की उम्मीद है। उपभोक्ताओं को मार्च महीने से बिजली सुचारु रुप से मिलने लगेगी। अगले साल इस पीएसएस के चालू होने से उपभोक्ताओं को काफी लाभ होगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Expected 2021 Power supply from GIS Power Sub Station