DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  मोतिहारी  ›  कोरोना संक्रमण से आर्थिक हल युवाओं को बल पर लगा ग्रहण

मोतिहारीकोरोना संक्रमण से आर्थिक हल युवाओं को बल पर लगा ग्रहण

हिन्दुस्तान टीम,मोतिहारीPublished By: Newswrap
Tue, 25 May 2021 03:51 AM
कोरोना संक्रमण से आर्थिक हल युवाओं को बल पर लगा ग्रहण

मोतिहारी। हिन्दुस्तान संवाददाता

कोरोना संक्रमण से आर्थिक हल युवाओं को बल अंतर्गत संचालित योजनाओं पर ग्रहण लग गया है। इन योजनाओं का क्रियान्वयन जिला निबंधन व परामार्श केन्द्र से किया जाता है। लेकिन कोरोना संक्रमण से उत्पन्न स्थिति को लेकर कार्यालय का कामकाज महीनों से ठप पड़ा है। लिहाजा इसके तहत संचालित बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड, मुख्यमंत्री निश्चय स्वयं सहायता भत्ता व कुशल युवा कार्यक्रम ठप पड़ा है। जिससे इन योजनाओं के लाभ से हजारों छात्र छात्राएं व युवा वंचित हैं।

बीएससीसी के तहत मिले हैं 8109 आवेदन

बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड अंतर्गत अभी तक 8109 आनलाइन आवेदन आए है जिसमे 7591 आवेदन का सत्यापन किया गया है । 5200 आवेदन स्वीकृत किया गया है । 12542.18 लाख रुपये स्वीकृत किया गया है एम 6349.02 लाख रुपये का भुगतान बिहार राज्य शिक्षा वित्त निगम पटना के द्वारा भुगतान किया गया है। इस योजना के तहत महिला व दिव्यांग को मात्र एक प्रतिशत व छात्रों को मात्र 4 प्रतिशत साधारण ब्याज पर शिक्षा लोन मुहैया कराया जाता है। जिससे छात्र छात्राओं को उच्च शिक्षा प्राप्त करने में काफी सहुलियत होती है। उन्हें शिक्षा लोन के लिए बैंकों का चक्कर नहीं लगाना पड़ता है।

मुख्यमंत्री निश्चय स्वयं सहायता भत्ता योजना भी प्रभावित

इस योजना अन्तर्गत अभी तक कुल 33261 आवेदन ऑनलाइन प्राप्त हुआ है जिसमें 29026 आवेदन स्वीकृत किया गया है जिसका कुल 3470.77 लाख भुगतान योजना विकास विभाग पटना के द्वारा किया गया है। इस योजना के तहत बिहार सरकार के द्वारा प्रति माह एक हजार रुपये का भुगतान दो साल के लिए करने का प्रावधान किया गया है। इस योजना का लाभ वैसे सभी छात्र छात्राओं को मिल सकता है जो इंटर के बाद आगे की पढ़ाई नहीं कर रहे हो या किसी प्रकार का रोजगार नहीं प्राप्त किये हों।

कुशल युवा कार्यक्रम के तहत मिले हैं 54538 आवेदन

इस योजना अन्तर्गत अभी तक कुल 54538 आवेदन आनलाइन प्राप्त हुआ है जिसमें 52579 आवेदन स्वीकृत किया गया है जिसमें 52416 आवेदन को प्रशिक्षण के लिए ऑनलाइन प्रेषित किया गया है । इस योजना अंतर्गत छात्र छात्राओं को तीन महीने का कंप्यूटर का प्रशिक्षण दिया जाता है। जिसमें भाषा, संवाद,सर्टिफिकेट इन इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी व सर्टिफिकेट इन सॉफ्ट स्किल्ड का 240 घंटे की अवधि तक प्रशिक्षण मुहैया कराने का प्रावधान है।

आवेदन की संख्या बढ़ाने को लगा था कैम्प

उक्त तीनों योजनाओं के जरिए आवेदकों को लाभान्वित कराने के लिए पंचायतों में कैम्प लगाकर काउंसिलिंग करायी गयी थी। काउंसिलिंग में 9 हजार से अधिक छात्र छात्राओं ने भाग लिया था। लेकिन कोरोना संक्रमण से सभी कार्य प्रभावित हुए हैं।

कहते हैं अधिकारी

डीआरसीसी के प्रबंधक वैभव कुमार ने बताया कि कोरोना संक्रमण से आर्थिक हल युवाओं को बल के तहत संचालित योजनाएं काफी प्रभावित हुई हैं। सरकार के निर्देशानुसार इस दिशा में आगे की कार्रवाई की जाएगी।

संबंधित खबरें