DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झंडा के दिन उपद्रव मामले में 11 नामजद

महावीरी झंडा जुलूस के दिन पथराव व उपद्रव मामले में 11 नामजद व 200 अज्ञात लोगों के खिलाफ नगर थाने में एफआईआर दर्ज की गयी। दंडाधिकारी सदर प्रखंड के पंचायती राज पदाधिकारी अरुण कुमार यादव के बयान पर एफआईआर हुई है।

इंस्पेक्टर अभय कुमार का कहना है कि सीसीटीवी व सेलफोन से उपद्रवियों की पहचान की गयी। गिरफ्तारी के लिये छापेमारी जारी है। दंडाधिकारी ने आवेदन में कहा है गांधी चौक से विभिन्न आखाड़ों की जुलूस मेन रोह होते हुये जानपुल की ओर जा रही थी। एक पूजा स्थल के सामने भवानीपुर की जुलूस पहुंची तो पूजा स्थल के सामने गली में खड़े पन्द्रह लड़के फब्तियां कसने लगे। जुलूस में घुसने की कोशिश की। पुलिस बल क सहारे वैसे लोगों पर नियंत्रण पाया गया। गुदरी बाजार की जब जुलूस पहुंची तो गली के लड़कों ने जुलूस पर पत्थर फेंक दिया और जुलूस में घुसकर उलझ गये। उसके बाद दोनों ओर से मारपीट व पत्थरबाजी शुरु हो गयी। उपद्रवियों ने शांति समिति के टेबल व साइकिल को आग के हवाले कर दिया। पुलिस लाइन से अतिरिक्त बल व वरीय अधिकारियों के पहुंचने के बाद मामला को शांति कराया गया।

इन लोगों पर हुआ केस :

चीकपट्टी के विक्की, असरफ, राजा मोहम्मद मजीद, तबरेज, राज उर्फ एलेक्स, हरिओम कनौजिया, हर्ष कुमार, आकाश कुमार, सागर कुमार, राजकुमार बम्बईया को नामजद व दो सौ अज्ञात लोगों पर केस दर्ज किया गया।

क्या है मामला:

गत पांच अगस्त की रात 11 बजे महावीरी झंडा की जुलूस मेन रोड से गुजर रही थी। रास्ते में एक पूजा स्थल के सामने जब जुलूस पहुंचा तो वहां कुछ देर के लिये रोककर लोग करतब दिखाने लगे। इस बीच किसी को पत्थर लगा। अफवाह फैली और एक पूजा स्थल के गेट पर तोड़फोड़ की गयी। स्कूटर को क्षतिग्रस्त कर दिया। सड़क पर कुछ दुकानों की बनी लकड़ी के सेड को रखकर आग लगा दी गयी। उसमें एक राहगीर की साइकिल छीन झोंक दिया। उपद्रव में दारोगा राकेश कुमार का सिर फट गया। डीएसपी एमएम मांझी समेत आधा दर्जन पुलिस अधिकारी व जवानों को चोटें लगी। डीएम रमण कुमार व एसपी उपेन्द्र कुमार शर्मा के पहुंचने के बाद स्थिति नियंत्रित हुई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:11 named in flagrant case