DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  मधुबनी  ›  झंझारपुर में बाढ़ पूर्व तैयारी में जुटा अंचल प्रशासन

मधुबनीझंझारपुर में बाढ़ पूर्व तैयारी में जुटा अंचल प्रशासन

हिन्दुस्तान टीम,मधुबनीPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 04:11 AM
झंझारपुर में बाढ़ पूर्व तैयारी में जुटा अंचल प्रशासन

झंझारपुर , निज प्रतिनिधि

मानसून से पूर्व ही बाढ़ पूर्व तैयारी में अंचल प्रशासन अपनी ताकत झोंक दी है। आपदा के समय राहत देने के लिए मची आपाधापी से बचने का काम पूर्व में ही किया जा रहा है।

अंचल प्रशासन द्वारा पूर्व के वर्षों में बाढ़ एवं अतिवृष्टि पीड़ित लोगों की सूची अपडेट की जा रही है। जीआर सूची में शामिल लोगों को सरकार द्वारा आपदा राहत के लिए प्रत्येक परिवार 6 हजार की राशि दी गई थी। इस बार कोरोना काल में ही अंचल प्रशासन सभी पंचायतों से पूर्व की सूची को आधार मानकर जीआर के लिए संभावित लाभुकों की आधार एवं पासबुक अपडेट कर रही है। अब तक प्रखंड के 17 पंचायत एवं नगर पंचायत मिलाकर कुल 18 पंचायतों में 7 पंचायतों की 39 वार्डो की सूची अपलोड की जा चुकी है। जानकारी अनुसार नरुआर पंचायत के 14 वार्ड में 9 वार्ड का, सिमरा पंचायत के 16 वार्डों में 7 वार्ड का, रैयाम पश्चिमी पंचायत के 13 वार्डो में 6 वार्ड का, रैयाम पूर्वी पंचायत के 11 वार्डों में 4 का, कोठिया पंचायत के 14 वार्डो में 8 वार्ड का, सूखेत पंचायत के 14 वार्डो में 2 वार्ड का एवं नगर पंचायत के 16 वार्डो में 3 पंचायतों के संभावित लोगों की सूची अपलोड की जा चुकी है।

सीओ कन्हैया लाल ने बताया कि प्रत्येक दिन डाटा ऑपरेटर को सूची अपलोड करने के लिए लगाया गया है। संभावित आफत, अतिवृष्टि या बाढ़ की स्थिति में सरकार के निर्देशानुसार प्रत्येक परिवार को त्वरित गति से छह हजार की राशि पूर्व के वर्षों की भांति खाते में दी जाएगी। नए लोग या छूटे हुए लोगों का नाम संबंधित पंचायत के अनुश्रवण समिति से अनुमोदन के बाद शामिल किया जाएगा। फिलहाल पूर्व में लाभ प्राप्त करने वाले लोगों की सूची ही अपडेट की जा रही है। बीते वर्ष आपाधापी में जीआर राशि वितरण में कहीं—कहीं डबल एंट्री हो गई थी। इस विसंगति को इस बार दूर करने का प्रयास किया जा रहा है। बाढ़ या अतिवृष्टि नहीं हुई तो राशि वितरण नही होगी। इधर वार्डों में लोग अपने आधार कार्ड एवं खाता बुक का फोटो स्टेट लेकर वार्ड सदस्य एवं मुखिया के यहां दौड़ लगानी शुरू कर दी। लोगो में भ्रांतियां है कि सरकार जल्द ही जीआर राशि देगी जिसे जनप्रतिनिधि स्तर से भी स्पष्ट नहीं किया जा रहा है।

संबंधित खबरें