DA Image
1 दिसंबर, 2020|8:27|IST

अगली स्टोरी

कहीं सड़क पर बिखरा है पाइप तो कहीं पेड़ पर लटका है नल

default image

सरकार की महत्वकांक्षी योजना नल का जल लोगों के बीच चुनावी मुद्दा बनता जा रहा है। कुछ वार्डों में यह योजना काम कर रही है तो कई जगहों पर लोगों को इसका लाभ नहीं मिला है। केवल फाइलों तक सिमटकर रह गयी है। कई जगहों पर आधा अधूरा काम हुआ है तो कई जगहों पर अभी तक नल से पानी नहीं टपका है। चुनाव में जनसंपर्क में घूम रहे प्रत्याशियों से लोग पूछ रहे हैं कि पानी कब मिलेगा। करही गांव के चंदन सिंह ने बताया कि उनके पंचायत में अधूरा काम किया गया है। किसी भी वार्ड में पानी की आपूर्ति नहीं हो रही है। प्रत्याशियों से भी यह सवाल किया जा रहा है कि आखिर इस पानी नहीं मिलने पर किसकी जिम्मेदारी तय होगी। कमोबेश यही स्थिति प्रखंड के कई पंचायतों के कई वार्डों की है जहां अभी नल से जल नहीं आ रहा है। कई पंचायतों में तो अभी तक काम भी पूरा नहीं हुआ है। लेकिन सरकारी फाइलों में बात ही कुछ और है। दामोदरपुर पंचायत के कालिश्चंद्र झा ने कहा कि उनके पंचायत में सड़कों पर महीनों से पाइप बिखरा पड़ा है। कोई देखने वाला नहीं है। वे बताते हैं कि घर में नल का जल तो नहीं पहुंचा पर पाइप बिछाने के नाम पर सड़क को खोदकर जरूर बर्बाद कर दिया गया है। बेतौना पंचायत के नसीम अहमद ने बताया घरों की बजाय पेड़ पर नल का टोटा बांध कर लावारिस अवस्था में छोड़ दिया गया है। 14 लाख की योजना में एक दिन भी पानी की सप्लाई नहीं हो पाया है। कमोबेस हर पंचायत की यही स्थिति बनी है। हलांकि सरकारी फाइलों की माने तो प्रखंड के 391 वार्डों में हर घर में नल का जल की आपूर्ति की जा रही है। लोगों का कहना है कि इसकी सच्चाई जानने के लिए प्रशासन की ओर से भी भौतिक सत्यापन नहीं किया गया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Somewhere the pipe is scattered on the road somewhere the tap is hanging on the tree