DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नवजातों की मौत मामले में डॉक्टरों से शोकॉज

नवजातों की मौत मामले में डॉक्टरों से शोकॉज

सदर अस्पताल स्थित एसएनसीय ू(सिक न्यू बॉर्न केयर यूनिट) में जनवरी से अबतक 43 नवजात की मौत मामले में सिविल सर्जन ने अधीक्षक सहित यूनिट के दो डॉक्टरों को शोकॉज किया है। सभी से दो दिनों के अंदर तथ्यात्मक वस्तुस्थिति से अवगत कराने को कहा है। इसके अलावा डीएम शीर्षत कपिल अशोक ने तीन सदस्यीय अधिकारियों की टीम गठित कर एसएसनसीयू सहित अस्पताल में व्याप्त अन्य कुव्यवस्था की जांच करने को कहा है।

इस टीम को भी दो दिनों में अस्पताल से संबंधित विस्तृत रिपोर्ट देने को कहा है। इधर, सिविल सर्जन डॉ. मिथिलेश झा ने मंगलवार को अधिकारियों की टीम के साथ एसएनसीयू का जायजा लिया। एसएनसीयू की स्थिति से अवगत हुए। यूनिट के इनबॉर्न और आउटबॉर्न में दो नई एसी लगा दी गई है। सभी बंद एसी को भी ठीक करा लिया गया है।

सिविल सर्जन ने अधीक्षक डॉ. हरि किशोर सिंह, एसीएमओ डॉ. एसपी सिंह, डॉ.एएन प्रसाद, अस्पताल प्रबंधक अब्दुल मजीद और एसएनसीयू प्रभारी दीपमाला से एसएनसीयू के ठीक ढंग से संचालन करने पर विचार विर्मश किया। सिविल सर्जन ने अस्पताल प्रबंधक को निर्देशित किया कि वे हर दिन एसएनसीयू में ऑक्सीजन, दवा व अन्य जरूरी चीजों की स्थति की जानकारी पहुंचकर लें। कोई भी दवा कम है तो तुरत उसकी आपूर्ति करवाएं। किसी भी सूरत में यूनिट में सुविधा मिले।

शुरू होगी माइकिंग व्यवस्था:

सिविल सर्जन डॉ. एमके झा ने कहा कि एसएनसीयू में माइकिंग व्यवस्था शुरू होगी। तीन से चार दिन में यह व्यवस्था शुरू हो जाएगी। नवजात को केवल दूध पिलाने के समय मां को अंदर बुलाया जाएगा। अंदर में नवजात व उनके परिजनों पर रोक रहेगी। ताकि नवजात में इंफेक्शन फैलने को खतरा न बढ़े।

सदर अस्पताल स्थित एसएनसीयू में निर्देश देते सिविल सर्जन, एसीएमओ, अधीक्षक व अन्य अधिकारी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Showcause notice from doctor new born child