Save my sweet baby from the sparkle - चमकी से मेरी प्यारी बच्ची को बचा लीजिए हुजूर DA Image
10 दिसंबर, 2019|7:00|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चमकी से मेरी प्यारी बच्ची को बचा लीजिए हुजूर

मधुबनी, नगर संवाददाता

उत्तर बिहार में चमकी-बुखार से अब तक 160 बच्चों की मौत हो चुकी है। इस पर मची हायतौबा के बाद स्वास्थ्य महकमा भले ही तमाम लंबे-चौड़े दावे कर रहा हो लेकिन प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों से लेकर शहर के सदर अस्पतालों की स्थिति में अब भी सुधार नहीं है। कहीं दवा नहीं तो कहीं खुद डॉक्टर साहब नदारत। प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में एसी की बात तो दूर पंखे तक नहीं चलते दिखे।

सुबह के नौ बजे हैं। सदर अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में एक बेड पर कौतवाली चौक की आठ साल की बच्ची राबिया परवीन कराह रही हैं। तेज बुखार से शरीर तप रहा था। उनकी मां आपदा खातून ने उसके सिर व पूरे बदन को गीले कपड़े से पोछ रही हैं। चेहरे पर डर साफ झलक रहा हैं। तभी डॉ. कुणाल कौशल आते हैं। कहती हैं मेरी प्यारी बेटी में चमकी बुखार के लक्षण हैं। इसको बचा लीजिए हुजूर। मुझे बहुत डर लग रहा है। हर एक घंटे पर पूरा शरीर अकड़ जा रहा है। और वह बेहोश हो जाती हैं। डॉक्टर ने कहा डरने की बात नहीं है। हीट स्ट्रोक की वजह से कनवर्जन हुआ है। तेज बुखार के बाद अक्सर ऐसा हो जाता है। बगल के बेड पर दूसरी पेसेंट कैथाही रामपट्टी की आमना खातून (18) भर्ती हंै। पूरा शरीर कांप रहा था। उसकी अम्मी बार-बार डॉक्टर से देखने की गुहार लगा रही थीं। उनके परिजन के बताया कि सुबह छह बजे अचानक तबीयत बिगड़ी। पूरा शरीर कांपने लगा। अब बोल भी नहीं पा रही है। डॉ. ने कहा इसे बे्रन संबंधी समस्या है। सीटी स्कैन लिखा गया है। यहां इसका इलाज संभव नहीं है। इसे रेफर करना होगा। परिजन इस बात को लेकर शोर-शराबा भी किया। इस तरह करीब 10 बजे तक इमरजेंसी में एक भी बेड खाली नहीं था। ताकि यहां से मरीजों को वार्ड में शिफ्ट किया जा सके। सभी बेड रात से ही भरे हैं। अब अगर पेंसेंट आता है तो उसको रखना भी मुश्किल है। ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर कुणाल कौशल ने बताया कि अन्य कुछ मरीज भी डिहाईड्रेशन के शिकार होकर आए हैं।

सभी की स्थिति सामान्य है। इमरजेंसी में दवाएं भी भरपूर हैं। इलाज को लेकर पूरी चौकसी बरती जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Save my sweet baby from the sparkle