अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अस्पताल में भर्ती मरीजों को मिलेगा बेहतर खाना

अब अस्पताल में भर्ती मरीजों को घटिया किस्म के भोजन खाने की मजबूरी नहीं होगी। उन्हें तीन समय बेहतर खाना परोसा जायेगा। यह बदलाव शीघ्र दिखेगा। मरीजों को मिलने वाली खराब खाने की शिकायत के बाद दुबारा टेंडर की प्रक्रिया अपनाई जा रही है। ताकि मरीजों को पोष्टिक एवं गुणवत्र्तापूर्ण भोजन मिल सके। सरकार की ओर से रोगियों को मिलने वाली पथ्य मद में 100 रुपये की रिाश खर्च करनी है। नई टेंडर की घोषणा के बाद मरीजों ने राहत की सांस ली है। सिविल सर्जन ने इस बात को गंभीरता से लेते हुए संवेदक की तलाश शुरू कर दी है। संवेदक चयन के लिए टेंडर निकाला जा चुका है। जो सदर अस्पताल, रेफरल, अनुमंडलीय अस्पातालों सहित तमाम पीएचसी में खाना सप्लाई करने का काम करेगा। अब नई दरों के मुताविक एक दिन में एक मरीज पर लगभग 100 रुपये खर्च किए जायेंगे। जिसमें सुबह का नास्ता, दिन एवं रात का भोजन भी शामिल है। खाने में मरीजों के रोग के हिसाब से खाने परोसे जायेंगे। भोजन में प्रोटीन एवं अन्य चीजों विटामिन की मात्रा का खासा ख्याल रखा जायेगा। डायविटीज के मरीजों को अलग से खाना दिया जायेगा। जिसमें सुगर की मात्रा नहीं होगीं। इसके अलावा वैसे रोगी जो खाना खाने में अक्षम हैं, उसे लिक्विड डायट एवं ट्यूब फीड भी मिलेगा। जिसमें फ्रुट जूस, दूध, सूप, सीपी मिक्स आदि दिये जायेंगे।

ये ले सकेंगे टेंडर में भाग : यह निविदा वैसी संस्था को दी जायेगी, जिसके पास फुड लाइसेंस होगा। साथ ही सरकारी या गैर सरकारी प्रतिष्ठानों में कम से कम दो साल का अनुभव होगा। जिसका प्रमाणपत्र भी निविदा भरने के समय लगाना होगा। सबसे पहले वैसे संवेदकों से साल भर का एकरारनामा किया जायेगा, जिसकी अच्छी कार्यशैली रहने पर तीन साल के लिए बढ़ाया जा सकेगा।

नीली डे्रस में दिखेंगे खान-पान सेवा में लगे कर्मी : खान-पान के लिए टेंडर के बाद जो संवेदक चयनित होते हैं। उनके कर्मियों को अस्पताल में ड्रेस कोड में रहना होगा। इसके लिए संवेदक को नीली ड्रेस उपलब्ध करायेगा। साथ उसके गले में पहचान पत्र होगा, जिसपर संबंधित एजेंसी का नाम, कर्मी का नाम और संबंधित अस्पताल का नाम अंकित रहेगा।

90 रुपये से कम पर नहीं होगी निविदा

पथ्य परोसने वाली कोई भी एजेंसी 90 रुपये से कम टेंडर नहीं डाल सकेगा। टेंडर प्राप्त करने के लिए पिछली बार बहुत की कम दर पर टेंडर डाल दिया गया था। 100 रुपये की जगह 76 रुपये में ही टेंडर डाल दिया गया था। जिस वजह से मरीजों को गुणवत्तापूर्ण खाना नहीं परोसा जा रहा था।

जिला स्वास्थ्य समिति से निविदा प्रक्रियाधीन है। शीघ्र ही निविदा निकालकर संवेदक का चयन कर लिया जाना है। इसबार की निविदा में कई नियमों में सख्ती की गई है। फिलहाल पुराने संवेदक अस्पताल में पथ्य परोस रहे हैं।

डॉ.अमरनाथ झा, सिविल सर्जन

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Patients admitted to hospital get better food