DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एनआर राशि नहीं लौटाना वित्तीय अनियमितता

निर्वाचन प्राधिकार के आदेश के बाद जिले के प्रखंडों में निर्वाची पदाधिकारियों के बीच हड़कंप मचा है। बिहार राज्य निर्वाचन प्राधिकार के संयुक्त सचिव रंजना कुमारी ने पैक्स व समितियों के चुनाव में एनआर की ली गयी राशि नहीं लौटाने को वित्तीय अनियमितता बताते हुए कार्रवाई का निर्देश दिया है।

उन्होंने सभी डीएम को एनआर की राशि लौटाने के साथ ही कार्रवाई को कहा है। माना जा रहा है कि प्राधिकार के आदेश के बाद कई अधिकारियों पर विभागीय कार्रवाई हो सकती है। दरअसल पैक्सों को निर्वाचन के लिए प्रति बूथ 5 हजार रुपये प्राधिकार को दिये जाने का आदेश दिया गया है। इसके खिलाफ पैक्स आंदोलन पर हैं। कॉपरेटिव बैंक के चेयरमैन ब्रह्मानंद यादव ने इसे लेकर निर्वाचन प्राधिकार को ज्ञापन भेजा, जिसके आलोक में प्राधिकार ने पूर्व में एनआर की ली गयी राशि अबतक नहीं लौटाये जाने को गंभीर माना और दस दिनों में राशि लौटाने का आदेश दिया। वर्ष 2009 और 2014 के चुनाव में एनआर की राशि ली गयी थी।यह राशि प्रति पैक्स औसतन 10 हजार होगा। बिहार राज्य निर्वाचन प्राधिकार के संयुक्त सचिव रंजना कुमारी ने सभी डीएम को आदेश अनुपालन कराए जाने का निर्देश दिया है। पिछले दिनों बैंक अध्यक्ष ब्रहानंद यादव और उपाध्यक्ष विश्वजीत कुमार सिंह को पैक्स अध्यक्षों ने ज्ञापन सौंपा। नये प्रावधान के खिलाफ रोष जताया।

अब नया आदेश आने से पैक्सों को राहत मिली है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:NR No Returning Financial Irregularities