DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  मधुबनी  ›  बेमौसम बरसात से चौपट हो रही जिले में मूंग की खेती

मधुबनीबेमौसम बरसात से चौपट हो रही जिले में मूंग की खेती

हिन्दुस्तान टीम,मधुबनीPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 04:11 AM
बेमौसम बरसात से चौपट हो रही जिले में मूंग की खेती

बाबूबरही , निज संवाददाता

बेमौसम की बरसात से बाबूबरही प्रखंड क्षेत्र की करीब डेढ़ हजार हेक्टेयर में आम किसानों व बटाईदारों की मूंग की खेती चौपट हो गई है। मूंग की खेतों में जल जमाव तथा अत्यधिक नमी से पौधे पीले पड़ने लगे हैं। जो पौधे बचे रह गए हैं उनकी छिमीयों में दाना नहीं लगा है। इससे किसानों की मेहनत पर पानी फिर गया है।

मुरहदी के घुरन पासवान, बिलटू यादव, रामवृक्ष राउत, रामकुमार यादव, विपैत पासवान, विक्रमशेर के रामशीष चौधरी, प्रमोद प्रभाकर समेत प्रखंड के सभी 20 पंचायतों के किसानों और बंटाईदारों ने चिंता जताई है। इनका यह कहना है कि वैशाख जेठ महीने में सावन भादो की तरह वर्षा हो रही है। इस बारिश ने मौसमी साग सब्जियों की खेती करने वाले लोगों की कमर तोड़ दी है। जबकि, वैशखा मौसमी साग सब्जियों की खेती करने के लिए किसानों को कमर तोड़ मेहनत करनी पड़ती है। सब्जियों की खेती में खाद— बीज, मजदूरी, खेत तैयार करने तथा सिंचाई करने में काफी पूंजी लगानी पड़ती है। किसानों ने बताया कि जब पौधे में फसल आने का समय आया तो बारिश हुई कि लगी लती ही सड़ गया। कद्दू, कदीमा, करैला, रमझुमनी, हरा मिर्च, टमाटर, तरबूज आदि की खेती खराब हो गई। मूंग के अलावा अन्य मौसमी साग सब्जियों की खेती में अपनी सारी पूंजी लगाने वाले बेला नवटोली, जगन्नाथपुर, कवियाही, बलानशेर आदि इलाकों में काफी संख्या में किसान चिंतित है। प्रकृति की मार ने उनके सामने में पड़ोसी गई थाली को छीन ली है। उल्लेखनीय है कि संपूर्ण प्रखंड क्षेत्र लंबे अरसे से बाढ़—सुखार का दंश झेल रहे हैं। किसानों को इस साल मूंग तथा साग सब्जियों की खेती के दगा देने से उन्हें आर्थिक नुकसान सहना पड़ा है।

संबंधित खबरें