DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  मधुबनी  ›  मौत के बाद भी गांव में नहीं लगा टीका व जांच शिविर

मधुबनीमौत के बाद भी गांव में नहीं लगा टीका व जांच शिविर

हिन्दुस्तान टीम,मधुबनीPublished By: Newswrap
Tue, 25 May 2021 03:51 AM
मौत के बाद भी गांव में नहीं लगा टीका व जांच शिविर

रहिका ,निज संवाददाता

कोरोना की भयावह स्थिति से निबटने में स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी दिनरात एक किये हुए हैं। दूसरी लहर में संक्रमण के फैलने पर लाकडाउन नहीं लगने से ग्रामीण क्षेत्र में लोग अनजान थे।

जगतपुर पंचायत के बरैया टोल मधुबनी शहर की सीमा से सटे होने से लोग बेपरवाह होकर शादी, ऊपनयन एवं मुंडन संस्कार के कार्यक्रम में भाग लिये। इसी बीच बरैया टोला के युवक मनोज झा की सेहत बिगड़ने पर कोरोना जांच कराया गया। जिसमें रिपोर्ट पाजिटिव निकला। ग्रामीण नवीन झा ने बताया कि मनोज को स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सकों ने बेहतर इलाज के लिए कोविड केयर सेंटर रामपट्टी में भर्ती कराया। ग्रामीणों ने बताया कि आक्सीजन की आपूर्ति नहीं होने से युवक की मौत हो गई। ग्रामीण सुबोध कुमार ने बताया कि गांव के लोग युवक के समुचित चिकित्सा व्यवस्था से इलाज नहीं होने पर सहम गए। गांव में दर्जनों लोगों को सर्दी खांसी की शिकायत थी। लेकिन लोगों को एक ही घटना ने आंख खोल दिया। इस घटना के बाद लोग भयभीत होकर घर में ही रहने लगे। कोविड हाट स्पॉट बनने की स्थिति में गांव के सभी मोहल्लों में सैनिटाइजर का छिड़काव किया गया। लेकिन गांव में कोरोना टीका लगाने एवं जांच की शिविर आयोजित नहीं किया गया। लोग सदमा से उबरे भी नहीं थे कि इसी दौरान लाकडाउन लग गया। अनिल सिंह एवं ग्रामीणों का कहना है कि भले ही प्रशासन लोगों को कोरोना से बचने की कवायद करते रहे। लेकिन एक युवक की मौत ने सभी को सरकारी चिकित्सा व्यवस्था के प्रति लापरवाही दिखा दी।

संबंधित खबरें