DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रतिस्पर्द्धा के लिए प्रतियोगिता जरूरी

default image

स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर रामकृष्ण महाविद्यालय में बुधवार को कला प्रखंड में वाद विवाद एवं क्विज कांटेस्ट का आयोजन किया गया। वाद विवाद प्रतियोगिता का विषय था ”भारत की शिक्षा नीति वर्तमान संर्दभ में” पक्ष एवं विपक्ष में। इस प्रतियोगिता कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए रामकृष्ण महाविद्यालय के प्रधानाचार्य डा अनिल कुमार मंडल ने छात्र छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि किसी भी प्रतियोगिता में छात्र छात्राओं के बीच प्रतिस्पद्र्घा होती है एवं इस प्रतिस्पर्द्धा में कुछ ही छात्र सफल और विजय होते हैं। कहा कि लगन और मेहनत के बल पर छात्र छात्राएं दुबारा भी सफलता और विजय को प्राप्त कर सकते हैं। कहा कि राजा बु्रश ने उदेश्य एवं सफलता की प्राप्ति के लिये दस बार युद्घ करने के बाद सफलता पायी थी। डा प्रकाश नायक ने प्रतियोगिता समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि छात्र छात्राओं के लिये वाद विवाद एवं क्विज प्रतियोगिता का आयोजन कराना एक महत्वपूर्ण बात है। इससे छात्रों में बोलने की दक्षता का विकास होता है। डा श्रुतिधारी सिंह ने कहा कि शिक्षा नीति में कई तरह की खामिया है। जिन खामियों को दूर करना आवश्यक है । इस कार्यक्रम में क्विज में पचास छात्र छात्राओं ने भाग लिया । जबकि वाद विवाद प्रतियोगिताओं में 28 छात्र छात्राओं ने भाग लिया। इस कार्यक्रम के संयोजक डा आरके मौर्य थे। क्विज एवं वाद विवाद के लिये छात्र छात्राओं के बीच पुरस्कार वितरित किये गये। क्विज एवं वाद विवाद प्रतियोगिता के निर्णायक मंडल में डा लवकुश शर्मा, डा रामेश्वर झा एवं डा श्रुतिधारी सिंह शामिल थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Competition is necessary for competition