DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  मधेपुरा  ›  प्राइवेट क्लीनिक के भरोसे बीमार लोगों का इलाज

मधेपुराप्राइवेट क्लीनिक के भरोसे बीमार लोगों का इलाज

हिन्दुस्तान टीम,मधेपुराPublished By: Newswrap
Thu, 13 May 2021 04:02 AM
प्राइवेट क्लीनिक के भरोसे बीमार लोगों का इलाज

कुमारखंड | निज संवाददाता

कोरोना काल में प्रखंड के लक्ष्मीपुर भगवती पंचायत के अलग-अलग वार्डों में सरकारी स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध नहीं रहने के कारण अधिकतर लोगों को निजी स्वास्थ्य सेवा के भरोसे रहना पड़ रहा है। हालांकि प्रखंड मुख्यालय स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भी इलाज की व्यवस्था की बात कही जा रही है लेकिन पंचायत स्तर पर लोगों को स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध नहीं हो पा रही है।

पंचायत के अधिकतर वार्डों में लोग प्राइवेट डॉक्टर के सहारे ही सर्दी-खांसी और बुखार का इलाज कराने को मजबूर हैं। प्रखंड मुख्यालय पहुंचने पर सीएचसी में इलाज इलाज की सुविधा मिलती है। पंचायत में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या वैसे तो कम है लेकिन मरीजों की संख्या में बढ़ोत्तरी न हो इसके लिए भी एहतियाती कार्रवाई नहीं की जा रही है।

अधिकतर लोग सरकारी गाइडलाइन के हिसाब से सामाजिक दूरी और मास्क का उपयोग तो कर रहे हैं। लेकिन कई जगहों पर लापरवाही भी देखी जा रही है। लोगों का कहना है कि गांव में सरकारी स्तर पर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध नहीं होने के कारण घर से बाहर निकल कर प्राइवेट क्लीनिक जाने की विवशता होती है। पंचायत में पिछले दो-तीन दिनों से प्रखंड प्रशासन के द्वारा हर परिवार को मास्क उपलब्ध कराने की व्यवस्था शुरू कर दी गई है।

प्रखंड विकास पदाधिकारी पंकज कुमार स्वयं पंचायत के चैनपुर सुंदरपट्टी में लोगों के बीच मास्क का वितरण कराया। मास्क का वितरण तो किया जा रहा है लेकिन पंचायत में सेनिटाइजेशन की व्यवस्था नहीं की जा रही है। सेनिटाइजेशन नहीं होने से कोरोना का खतरा बना हुआ है।

18 हजार से अधिक आबादी वाले इस पंचायत में 16 वार्ड हैं। इस पंचायत के लोग लोग आज भी स्वास्थ्य सुविधा के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर ही निर्भर रहते हैं। पंचायत स्थित स्वास्थ्य उपकेन्द्र बदहाल है। स्थानीय निवासी मुखिया प्रतिनिधि जयप्रकाश पासवान, परशुराम तिवारी, पंसस रामपुकार पासवान, भगवान मंडल, धर्मेन्द्र कुमार मंडल, मुनी लाल गुप्ता सहित अन्य लोगों ने बताया कि वे लोग आज भी प्राइवेट क्लीनिक या फिर प्रखंड मुख्यालय स्थित सीएचसी में इलाज कराने के लिए मजबूर रहते हैं। गांव में स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध नहीं होने से प्राइवेट क्लीनिक ही सहारा है।

बीडीओ पंकज कुमार ने बताया कि एक दो दिन में सभी पंचायत के वार्ड में सेनिटाइजिंग कराने की कार्रवाई शुरू कर दी जाएगी। उन्होंने बताया कि सरकार के निर्देश के अनुसार हर वार्ड में महामारी की रोकथाम के लिए वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति के कार्य और दायित्व का निर्धारण कर उसे क्रियाशील किया जाएगा।

संबंधित खबरें