DA Image
1 अक्तूबर, 2020|12:07|IST

अगली स्टोरी

दोहरी संकट से निपटने में डबल इंजन की सरकार विफल

default image

बीते दिन 25 मार्च से कोरोना महामारी को लेकर लाकडाऊन किया गया। अन्य प्रदेश से घर पुलिस की लाठी खाकर और अन्य यातना सहकर घर आये मजदूर फिर से पलायन कर रही है। सरकार बोल रही थी कि सभी को अपने राज्य में हीं रोजगार मिलेगा। लेकिन रोजगार नहीं मिलने के कारण मजदूर पुन: चारगुणा भाड़ा देकर बाहर पलायन करने को मजबूर है। ये बातें बयान जारी जाप के युवा प्रखंड अध्यक्ष गौरव राय ने कही। उन्होंने कहा कि हर दिन हजारों मजदूरों की पलायन जारी है।

मजदूरों का एक हजार रूपया देने में भी बिहार सरकार विफल रही। जिस मजदूर को रोजगार नहीं मिला ऐसे मजदूर भुखमरी के कगार पर है। स्कूल कॉलेज बंद है। न कोरोना से निजात मिली और बाढ़ से निजात जनता ठगी महसूस कर रही है। दोहरी संकट से निपटने में डबल इंजन की सरकार विफल है। बाढ़ के बाद हुए जलजमाव से महामारी जैसी स्थिति उत्पन्न हो गई है। प्रशासनिक स्तर और स्वास्थ्य विभाग द्वारा अभी तक कोई भी ठोस कदम अभी तक नहीं उठाया गया है। अगर यही हालत रहा तो 1 से 2 सप्ताह के अंदर जलजमाव वाले क्षेत्र में डायरिया मलेरिया आदि जैसे बीमारी फैल जाएगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Government of double engine failed to deal with double crisis