DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › मधेपुरा › मजदूरी भुगतान नहीं करने का लगाया आरोप
मधेपुरा

मजदूरी भुगतान नहीं करने का लगाया आरोप

हिन्दुस्तान टीम,मधेपुराPublished By: Newswrap
Fri, 30 Jul 2021 04:22 AM
मजदूरी भुगतान नहीं करने का लगाया आरोप

उदाकिशुनगंज | एक प्रतिनिधि

सरकार की महत्वाकांक्षी मनरेगा योजना में आये दिन अधिकारियों के मिलीभगत से जॉब कार्डधारी मजदूरों को उनकी मजदूरी नहीं दिए जाने की शिकायत होती रहती है। अधिकारियों और बिचौलियों का यह गठजोड़ गमैल पंचायत में देखने को मिला है। मामले को लेकर मजदूरों ने एसडीएम राजीव रंजन कुमार सिन्हा से मिलकर ज्ञापन सौंपा और त्वरित कार्रवाई की मांग की। जॉब कार्डधारी मजदूरों ने कार्रवाई नहीं होने पर आंदोलन का अल्टीमेटम दिया। मजदूरों ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को भी पत्र भेजा है।

मजदूरों ने कहा कि वह सभी बिहारीगंज पंचायत के गमैल वार्ड नौ और 10 के निवासी हैं। सभी व्यक्ति मेहनत मजदूरी कर जीवन यापन करते हैं। पंचायत में मनरेगा विभाग के द्वारा पंचायत समिति योजना अंतर्गत टुनटुन साह के बासा से लक्ष्मीपुर सीमा तक मिट्टी भराई एवं ईट सोलिंग का कार्य कराया जा रहा था जिसमें हम सभी मजदूरों के द्वारा मजदूरी किया गया। कार्य के दौरान पंचायत रोजगार सेवक द्वारा फोटोग्राफी की जाती रही। कार्य के कुछ दिन बीत जाने के बाद जब हम सभी मजदूरों ने मजदूरी की मांग की तो रोजगार सेवक ने कहा कि उन लोगों से कोई काम वह नहींकराए जाने की बात कही।

कुछ दिन बाद ही अन्य लोगों के खाते में राशि स्थानांतरित कर दी गई और खाते से रुपए की निकासी भी कर ली गई। रोजगार सेवक से जब बात करने का प्रयास किया जाता है तो वह कार्यक्रम पदाधिकारी से बात करने की सलाह देते हैं और उनसे ही रुपए मांगने की बात कहते हैं। ज्ञात हो कि मनरेगा योजना में बड़े पैमाने पर धांधली की जाती है। दूसरे मजदूरों को खड़ा कर फोटोग्राफी की जाती है।

जॉब कार्ड भी ऐसे लोगो का बनवा दिया गया है जो पूर्णत: अपात्र लोग हैं। ऐसे लोगों का जॉब कार्ड बना देने से रोजगार सेवक को रुपये निकासी में आसानी होती है। बिहारीगंज गमैल सहित कई पंचायत की यही स्थिति है। मामले में एसडीएम राजीव रंजन सिन्हा ने मजदूरों को आश्वासन देते हुए कहा कि मामले की जांच करा कर दोषियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

संबंधित खबरें