DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

22 तक शहर से अतिक्रमण हटा लेने की चेतावनी

22 तक शहर से अतिक्रमण हटा लेने की चेतावनी

शहर को जाम से मुक्त रखने व अतिक्रमण हटाने को लेकर डीएम-एसपी के निर्देश के बाद नगर प्रशासन ने पहल शुरू कर दी है। दूसरे दिन रविवार को भी अतिक्रमण हटाओं अभियान जारी रहा। विद्यापीठ चौक से थाना चौक तक अतिक्रमित करने वाले दुकानदारों को चेतावनी दी गई कि सड़़क या सड़क के किनारे अतिक्रमण नहीं करें। अतिक्रमण की वजह से शहर में जाम की समस्या विकराल होती चली जा रही है। जाम की वजह से अवाम से लेकर वीआईपी तक परेशान हैं। भीषण जाम लगने से ट्रैफिक पुलिस भी परेशान हो रही है।शहर की सड़कों को अतिक्रमित करने वाले फुटपाथी दुकानदारों की अब खैर नहीं है। फुटपाथी दुकानदारों पर पुलिस का डंडा, कानूनी कार्रवाई और बुल्डोजर चलना तय माना जा रहा है। पुलिस कार्रवाई की पहल शुरू होते ही अतिक्रमित दुकानदारों में हड़कंप मचना शुरू हो चुका है। सड़क व सार्वजनिक जगहों पर अतिक्रमण करने वाले दुकानदारों को पुलिस की सहयोग से नगर प्रशासन के अधिकारी ने हाथों-हाथ नोटिस थमाकर मुक्त करने की अपील कर रहे हैं। नगर प्रशासन ने शहरी क्षेत्र के 422 फुटपाथी दुकानदारों को चिह्नित किया है। रविवार को छुट्टी के बावजूद भी नगर प्रशासन ने माइकिंग कर अतिक्रमण करने वाले दुकानदारों को अतिक्रमित स्थल को मुक्त करने की चेतावनी दी है। माइकिंग से प्रचार-प्रसार की जा रही है कि 22 मई तक शहरी क्षेत्र के सड़क व सार्वजनिक जगहों पर से अतिक्रमण को मुक्त कर दें। जाम की समस्या से कराह रहे शहर को अतिक्रमण मुक्त करने को लेकर आखिरकार जिला प्रशासन ने काफी जद्दोजहद के बाद यह अभियान शुरू की है। जिला प्रशासन के निर्देश पर शहर को अतिक्रमण मुक्त करने को लेकर नगर थानाध्यक्ष अभिजीत कुमार, कबैया थानाध्यक्ष राजीव कुमार, मिशन सिटी मैनेजर अमित कुमार सिन्हा मौजूद थे।अतिक्रमण करने वाले दुकानदारों को नोटिस थमाया जा रहा है। अतिक्रमण मुक्त नहीं करने वाले चिह्नित दुकानदारों के विरुद्ध प्राथमिकी भी दर्ज की जाएगी। सामान भी जब्त होंगे और जुर्माना भी वसूला जाएगा। अतिक्रमण हटाने को लेकर दुकानों को पूर्व में भी कई बार सूचना दी जा चुकी है। मुरली प्रसाद सिंह, एसडीएम, लखीसराय

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Up to 22 warnings of encroachment from city