DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पोस्टमार्टम कराने के लिए देना पड़ता है पैसा

सदर अस्पताल स्थित पोस्टमार्टम हाउस में कार्यरत कर्मियों का अमानवीय चेहरा बुधवार को उजागर हुआ। पिपरिया के राजो बिंद की गोली मारकर हुई हत्या के बाद पोस्टमार्टम के लिए आए एक शव का बिना पैसा लिए पोस्टमार्टम करने को तैयार नहीं हुए।

शव के साथ आए परिजनों की माली हालत ऐसी नहीं थी कि पोस्टमार्टम हाउसकर्मियों को मुंहमांगी राशि तीन हजार रुपया दे पाता। इसके बाद सौदेबाजी शुरू हुई और पोस्टमार्टमकर्मी अंतत: 15 सौ रुपए लेकर पोस्टमार्टम करने को राजी हुए। इतनी राशि नहीं रहने के कारण परिजन असमंजस की स्थिति में थे कि इसी बीच पिपरिया प्रखंड प्रमुख लुसी देवी के पति रामबिलास शर्मा आए और पांच सौ रुपए देने लगे लेकिन पोस्टमार्टम हाउस पांच सौ रुपए में तैयार नहीं हुआ।

पूरे मामले को मीडियाकर्मी देख रहे थे और उन्होंने पूरे वाकया की जानकारी डीएम एसके चौधरी, एसडीएम मुरली प्रसाद सिंह, डीसीएलआर सह डीएम के ओएसडी नीरज कुमार को दिया। डीएम, एसडीएम सभी ने सीएस राज किशोर प्रसाद एवं सदर अस्पताल उपाधीक्षक डा. मुकेश कुमार को फोन कर पोस्टमार्टम कराने की जिम्मेदारी दी। इसके अलावा जिला प्रशासन के दबाव में पोस्टमार्टम की तैयारी शुरू हुई, शव को पोस्टमार्टम के लिए अंदर ले जाया गया। इसके बाद कर्मियों ने ग्लब्स, ब्लेड एवं धागा की मांग कर दी। मृतक के परिजनों ने बाजार से खरीदकर ग्लब्स, ब्लेड एवं धागा उपलब्ध कराया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:To pay for post-mortem, you have to pay