ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार लखीसरायहवा चलते ही गुल हो जाती है बिजली आपूर्ति

हवा चलते ही गुल हो जाती है बिजली आपूर्ति

पूरे दियारा क्षेत्र में गुरुवार को बिजली आपूर्ति की व्यवस्था गड़बड़ रही। सुबह लगभाग साढ़े नौ बजे के आसपास आंधी और हल्की बारिश आने के साथ ही बिजली...

हवा चलते ही गुल हो जाती है बिजली आपूर्ति
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,लखीसरायFri, 21 May 2021 04:44 AM
ऐप पर पढ़ें

लखीसराय। हिन्दुस्तान संवाददाता

पूरे दियारा क्षेत्र में गुरुवार को बिजली आपूर्ति की व्यवस्था गड़बड़ रही। सुबह लगभाग साढ़े नौ बजे के आसपास आंधी और हल्की बारिश आने के साथ ही बिजली आपूर्ति बंद कर दी गई। शाम पांच बजे तक लगभग सात घन्टा तक बिजली आपूर्ति बाधित रहा। प्रतापपुर और रामचंद्रपुर पावर सब ग्रिड से पूरे दियारा इलाके में बिजली की आपूर्ति होती है। रामचंद्रपुर सब ग्रिड से रहाटपुर, रामचंद्रपुर, वलीपुर और मोहनपुर के गांवों में बिजली आपूर्ति होती है। जबकि प्रतापपुर सब पावर सब स्टेशन से पिपरिया, मालपुर, लालदियारा में बिजली कि आपूर्ति की जाती है। गुरुवार की सुबह आई आँधी और बारिश के बाद लगभग साढ़े नौ बजे से बाधित बिजली आपूर्ति शाम पांच बजे तक चालू नही हो सका। बिजली आपूर्ति बाधित रहने से दियारा क्षेत्र के लोगों को काफी परेशानी हो रही है।

भारी बारिश और बढ़ेगी परेशानी

हल्की आंधी और बारिश के बाद बिजली विभाग के द्वारा सात से आठ घन्टा बिजली बाधित की जा रही है। आने वाले समय मे भारी बारिश होने की स्थिति में दियारा क्षेत्र के लोगों को और ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ेगा। सरकार के 24 घंटा बिजली आपूर्ति के दावा को मामूली खराबी को नजरअंदाज कर सरकारी तंत्र फेल साबित करने पर तुला हुआ है। बिजली आपूर्ति बाधित रहने से उमस भड़ी गर्मी में लोगों को परेशान होना पड़ रहा है। बिजली विभाग के कर्मियो की कार्यशैली को लेकर लोगो में काफी नाराजगी है।

लो वोल्टेज के बाद बिजली कट की समस्या

दियारा क्षेत्र में पूरे दिन लो वोल्टेज की समस्या से लोग परेशान हो रहे थे। कई बार विभागीय पदाधिकारियों को लो वोल्टेज की समस्या से निजात दिलाने का शिकायत किया गया लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। लो वोल्टेज की समस्या से परेशान लोगों को हल्की आँधी और बारिश के बाद ही बिजली कट की समस्या से जूझना पड़ रहा है। रामचंद्रपुर के चंद्रमोहन प्रसाद सिंह, फंटूश कुमार सहित अन्य ने कहा कि लो वोल्टेज से निजात तो नहीं मिला लेकिन बिजली कट की समस्या से भी सामना करना पड़ रहा है। विभागीय पदधिकारियों को बिजली कट और लो वॉल्टेज की समस्या से निजात दिलाने का कार्य करना चाहिए।

घंटों रही बिजली गुल

लखीसराय। लखीसराय शहरी क्षेत्र में गुरुवार को बारिश के कारण बिजली आपूर्ति बाधित रही। रूक-रूक कर हो रही बिजली आपूर्ति ने लोगों को परेशान कर दिया। दोपहर में करीब तीन घंटे तक बिजली आपूर्ति बाधित रही। इस बीच वैसे लोगों को अधिक परेशानी हुई, जो विद्युत से उपयोग करने वाले उपकरणों के जरिए अपना कामकाज निबटाते हैं।

बूंदाबांदी के बीच घंटों रही बिजली बाधित

बड़हिया। सुबह से ही रूक-रूक कर बरसते रिमझिम बारिश के बीच गुरुवार को प्रखंड क्षेत्र में बिजली की समस्याएं बनी रही। आकाश में मंडराते बादल और गिरती बूंदों के बीच वातावरण में नमी अवश्य बनी रही। बिजली सेवाओं के बाधित होने से पेयजल सहित अन्य आवश्यकताओं पर संकट बना रहा। सुबह के साढ़े आठ बजे से गायब रही बिजली व्यवस्था 5 घंटे से भी अधिक समय उपरांत दोपहर दो बजे के बाद पुनर्बहाल हो सका। इस संबंध में विभाग के शहरी संभाग के जेई मनीष कुमार ने बताया कि तेज हवाओं के बीच हाथीदह स्थित ग्रिड में ही 33हजार केवीए के तार में समस्या उतपन्न हो जाने के कारण बिजली बाधित रही। समस्या के समाधान होते ही शहरी व ग्रामीण इलाके समेत पूरे प्रखंड क्षेत्र में बिजली आपूर्ति बहाल कर दी गई।

घंटों बिजली आपूर्ति रही बाधित

सूर्यगढ़ा। निज प्रतिनिधि

विद्युत अवर प्रमंडल कार्यालय के सूर्यगढ़ा बाजार, पुरानी बाजार, पटेल चैक तथा अन्य समीपवर्ती गांवों में घंटों बिजली की आपूर्ति बाधित रहने से उपभोक्ताओं को परेशानी होती रही। पिछले कई दिनों से विद्युत आपूर्ति के बाधित रहने से उपभोक्ता परेशान रहे। छात्रों, शिक्षकों, किसानों, दुकानदारों आदि को परेशानी हुई। राजकपूर भाई पटेल तथा अन्य ग्राहकों ने बताया कि कई दिनों से बिजली आपूर्ति बाधित रहने से लोग परेशान हो गए हैं। विभागीय अधिकारी और कर्मी इस दिशा में कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं। लखीसराय और मुंगेर के अधिकारियों को भी इसकी शिकायत की गई है।कार्यालय के विभागीय एसडीओं ब्रजेश कुमार ने बताया कि कही कोई फाउल्ट नहीं है,मगर लखीसराय ग्रीड से ही आपूर्ति बाधित है। लखीसराय ग्रीड में ही कुछ कार्य हो रहा है। इस कारण से सूर्यगढ़ा की आपूर्ति भी बाधित है। विभागीय कार्यालय के कर्मियों और जानकार लोगों का कहना है कि जब तक सूर्यगढ़ा में ग्रीड का निर्माण नहीं होगा तब तक कठिनाई होती रहेगी। वैसे यहां क्षेत्रीय स्तर पर उपकेन्द्र है। करीब 25 किलोमीटर से ज्यादा के क्षेत्रों में फाउल्ट खोजने में दिक्कत होती है। ग्रीड रहने से आपूर्ति में कोई समस्या नहीं रहती। गाड़ी की मदद से भी फाउल्ट को नहीं खोजा जा सकता है। पैदल चलकर ही विद्युत कर्मी जहां-तहां खेतों, निर्जन स्थानों, वृक्षों आदि के पास फाउल्ट खोजते है और आपूर्ति चालू करते है।

epaper