DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एटीएम के बाहर लगी भीड़ ने नवंबर 2016 में हुई नोटबंदी की याद दिला दी

एटीएम के बाहर लगी भीड़ ने नवंबर 2016 में हुई नोटबंदी की याद दिला दी

मंगलवार को शहर के अधिकांश एटीएम बंद रहने या कैश नहीं रहने के कारण उपभोक्ताओं के लिए मुसीबत बन गया। कुछेक एटीएम, जो खुले हुए थे, वहां लोगों की लंबी कतारें लग गई। घंटे-घंटे भर बाद लोगों का नंबर आता था। ऐसी स्थिति ने एक बार फिर नवंबर 2016 में हुई नोटबंदी की याद दिला दी। पिछले तीन दिनों में एटीएम में खत्म हुए कैश के बाद नोट डाले ही नहीं गए थे। कई एटीएम बंद थे, जोकि नोट डाले जाने के बाद दोपहर बाद खुले। मालूम हो कि मंगलवार को तीज एवं चौठचंदा को लेकर बाजार में भारी भीड़ लगी हुई थी। काफी संख्या में उपभोक्ता बाजार करने के लिए एटीएम के सहारे आए थे। लेकिन एटीएम के सहारे बाजार करने आए उपभोक्ताओं को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। जिला मुख्यालय के अधिकांश एटीएम के बंद एवं कैशलेस रहने के कारण नया बाजार स्थित एसबीआई एवं पुरानी बाजार स्थित ओबीसी बैंक के एटीएम पर लोगों की भीड़ लगी रही। दो से दिन घंटा तक इंतजार कर लोग एटीएम से पैसे से निकासी कर रहे थे। लोगों का कहना था कि उपभोक्ताओ को आसान एवं सुलभ बैंकिंग सुविधा उपलब्ध कराने के लिए जिला मुख्यालय में विभिन्न बैंक के लगभग दो दर्जन एटीएम लगाया गया है, लेकिन आसान बैंकिग सुविधा उपलब्ध कराने के लिए लगाया गया एटीएम उपभोक्ताओं के लिए बेकार रहा। जिला मुख्यालय में इंडियन बैंक, यूनियन बैंक, ओबीसी बैंक, एक्सिस बैंक का दो एटीएम, आईसीआईसीआई बैंक का पांच एटीएम, यूको बैंक, बैंक आफ बड़ौदा, केनरा बैंक, एचडीएचसी बैंक, आईडीअीआई बैंक, बैंक आफ इंडिया, बंधन बैंक, पीएनबी एवं एसबीआई बैंक का तीन एटीएम उपभोक्ताओ के सुविधा के लिए लगाया गया है। लेकिन मंगलवार को शहर के एसबीआई एवं ओबीसी बैंक के अलावा किसी अन्य बैंक के एटीएम से रुपया नहीं निकल रहा था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Many ATMs broke off from bank closure for three days