DA Image
27 अक्तूबर, 2020|3:27|IST

अगली स्टोरी

लखीसराय: कांग्रेस व आइसा ने फूंका यूपी सीएम का पुतला

default image

उत्तर प्रदेश के हाथरस में 19 वर्षीय दलित छात्रा के साथ हुए गैंगरेप और हत्या के खिलाफ राष्ट्रीय प्रतिवाद दिवस के तहत सीपीआई (माले) छात्र संगठन आइसा की ओर से सदर प्रखंड के किऊल खगौर में कैंडल मार्च निकाला गया। बुधवार की शाम को कैंडल मार्च निकालकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए कठोर कार्रवाई की मांग की गई। आइसा राज्य कार्यकारिणी सदस्य सुधाकर कुमार ने कहा कि हाथरस की बेटी को हैवानों ने सामूहिक बलात्कार कर सदा के लिए मौत की नींद सुला दी। हैवानियत की हद तो तब हो गई जब 14 सितंबर को चार दरिंदों ने मिलकर गैंगरेप के बाद लड़की को बुरी तरह जख्मी कर दिया।

आरोप लगाया कि योगी सरकार हाथरस के बलात्कारियों को बचाने का प्रयास कर रही है। जो लड़की इतनी भयानक क्रूरता का शिकार हुई और 9 दिन के बाद बोलने की स्थिति में आई और होश में आते ही नामजद बयान में चार लड़कों द्वारा बलात्कार की बात कही। फिश्र भी योगी की पुलिस कह रही है लड़की का बलात्कार ही नहीं हुआ। इतना ही नहीं पीड़िता के परिजनों व ग्रामीणों को आखिरी दर्शन तक करने नहीं दिया गया। सुबह तक रूकने का निवेदन करते रह गए, लेकिन पुलिस ने आधी रात को परिजनों के मर्जी के विरुद्ध घर वालो को बंदी बना कर शव जला देने का काम किया। ताकि दोबारा पोस्टमार्टम ना हो पाए। इससे साफ साबित होता है कि सरकार चारों बलात्कारियों को बचाने का भरपूर प्रयास कर रही है। मौके पर प्रभाकर, विकास, दिवाकर, चंदन, दीपक, अमन, राहुल, सुधाकर आदि शामिल थे।

इधर उत्तर प्रदेश के हाथरस में हुई गैंगरेप की घटना से आक्रोशित कांग्रेसियों ने बुधवार को कजरा में कैंडल मार्च निकाला। कैंडल मार्च का नेतृत्व सूर्यगढ़ा प्रखंड के युवा कांग्रेस अध्यक्ष अभिलेख कुमार झा ने किया। युवा कांग्रेस के पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष पवन कुमार ने कहा कि यूपी में लगातार घट रही दुष्कर्म की घटनाओं ने वहां की कानून व्यवस्था की पोल खोल दी है। कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने हाथरस की बेटी को नम आंखों से श्रद्धांजलि दी। मौके पर राजद नेता संजय झा एवं कांग्रेस के चंदन, रोहित, संतोष तूफानी, भोला, गौरव सहित दर्जनों कांग्रेसी कार्यकर्ता मौजूद थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Lakhisarai Congress and AISA burn effigy of UP CM