DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रोत्साहन राशि के लिए लगा रहे चक्कर

प्रोत्साहन राशि के लिए लगा रहे चक्कर

प्रखंड को खुले में शौच मुक्त करने की गति में प्रोत्साहन राशि बाधा बन गई है। अगर प्रोत्साहन राशि भुगतान की रफ्तार यही रही तो 2019 में स्वच्छ भारत का सपना साकार होने में बड़ा सवाल खड़ा हो जाएगा।

प्रखंड के 139 वार्डों में 12 हजार 996 शौचालय निर्माण कराना था, कार्य की गति सुस्त रहन से 3719 शौचालय ही बन सका है। ऐसे में 2019 तक खुले में शौच मुक्त बनाने की मुहिम कितना सफल हो पायेगा इसका अंदाजा सहज लगाया जा सकता है।

3719 में 1766 का हुआ जियो टैगिंग : प्रखंड में 12,996 शौचालय निर्माण का लक्ष्य था, जिसमें 3719 शौचालय बनकर तैयार है, लेकिन जियों टैगिंग मात्र 1766 हुआ है। प्रखंड स्वच्छता समन्वयक मौसमी कुमारी ने कहा कि सौ से ज्यादा लाभुक के खाते में राशि भेज दिया जायेगा। वहीं बीडीओ राकेश कुमार ने कहा कि कुछ -कुछ लाभुकों की राशि जियों टैगिंग के कारण लंबित है। इसे जल्द ही दुरूस्त कर भुगतान कराने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Incentives are staggering thought for the amount