DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › दो घंटे की बारिश में पानी-पानी हुआ शहर
कोसी

दो घंटे की बारिश में पानी-पानी हुआ शहर

हिन्दुस्तान टीम,कोसीPublished By: Newswrap
Mon, 30 Aug 2021 10:51 PM
दो घंटे की बारिश में पानी-पानी हुआ शहर

किशनगंज। हिन्दुस्तान प्रतिनिधि

किशनगंज में लगातार बारिश से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। एक सप्ताह से रुक-रुक कर हो रही बारिश ने शहर की स्थिति नारकीय बना दी है। शहर के मुख्य सड़कों, गली-मुहल्लों सहित बाजारों में जलजमाव से लोग परेशान हैं। एक ओर नगर परिषद जलजमाव निकालने में व्यस्त है तो दूसरी तरफ बारिश से जलजमाव घटने का नाम नहीं ले रहा है। सोमवार को सुबह से ही मौसम खराब था। सुबह 11.30 बजे के बाद देखते ही देखते आकाश काले बादलों से घिर गया और जोरदार बारिश शुरु हो गयी। करीब दो घंटे तक मूसलाधार बारिश से शहर का कोई कोना नहीं बचा जहां जलजमाव न हुआ हो। ऊंचे इलाकों से तो पानी नाला के जरिए निकल गया। लेकिन निचले इलाकों में जलजमाव ने पैदल चलना मुश्किल कर दिया। मूसलाधार बारिश ने जहां बाजारों की स्थिति नारकीय बना दी। वहीं मुख्य सड़कों सहित गली मुहल्लों की सड़कें भी डूब गयी। शहर के डे मार्केट ओवर ब्रिज के पास भी जलजमाव हो गया। डेढ़ से दो फीट पानी जमा हो गया। वहीं एन एच 27 बायपास सड़क पर भी दो से ढ़ाई फीट पानी जमा रहने से लोगों को आवाजाही में परेशानी झेलनी पड़ी। पश्चिमपाली इमली गोला चौक सड़क भी डूब गयी। इसके अलावा धरमगंज, केलाबगान, दिलावरगंज, कैलटैक्स चौक, पूरबपाली, धर्मशाला रोड, महावीर मार्ग, कसेरापट्टी, गुदरी बाजार, डुमरिया भट्ठा, मझिया, खगड़ा, रुईधासा, मोहिउद्दीनपुर, पश्चिमपाली, उत्तरपाली सहित अन्य जगहों पर जलजमाव की स्थिति हो गयी। दो घंटे तक तेज बारिश के बाद दिन भर रिमझिम बारिश होती रही। जिससे सड़कों पर सन्नाटा छा गया।

क्या कहते मौसम वैज्ञानिक

मंडन भारती कृषि कॉलेज अगवानपुर के मौसम वैज्ञानिक डा. संतोष कुमार ने बताया कि अभी जिले में और बारिश होने की संभावना है। 31 अगस्त तक मौसम विभाग ने बिहार, बंगाल सहित अन्य राज्यों में भारी बारिश की संभावना जताई है। खासकर बंगाल में भारी से भारी बारिश होने की संभावना है। किशनगंज में भी आज भारी बारिश हो सकती है। इन्होंने बताया कि निम्न दवाब का क्षेत्र पूर्वी भारत में बनने के कारण बारिश हो रही है। सुपौल, सहरसा, मधेपुरा, किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया सहित अन्य जिलों में बारिश होगी। बारिश के कारण तापमान में भी गिरावट आएगी। सोमवार को किशनगंज का न्यूनतम तापमान 27 व अधिकतम 29 डिग्री दर्ज किया गया। इधर लगातार बारिश से नदियों का जलस्तर बढ़ने से लोग सहम गए हैं। शहर के बीच बहनेवाली रमजान नदी का भी जलस्तर बढ़ने लगा हैं। जिससे लोग सहम गए हैं। बढ़ते जलस्तर को देख लोगों को अगस्त 2017 में आए भीषण बाढ़ की याद सताने लगी है। इसके अलावा महानंदा, कनकई नदी का जलस्तर बढ़ने से नदी से सटे कई गांवों में कटाव का खतरा बढ़ गया है। दिघलबैंक, टेढ़ागाछ, किशनगंज प्रखंड के कई गांवों में कटाव का खतरा मंडराने लगा है। दिघलबैंक के पत्थरघट्टी पंचायत के दर्जनों गांव, टेढ़ागाछ के मटियारी व हवाकोल पंचायत के दर्जनों गांव कटाव के खतरे में है। किशनगंज प्रखंड का दौला पंचायत में भी कटाव का खतरा है।

बारिश से फसलों को होगा फायदा

लगातार हो रही बारिश इस बार धान की फसल के लिए काफी फायदेमंद साबित हो रहा है। चारों ओर धान की फसलें लहलहा रही है। किसानों ने बताया कि कई साल बाद ऐसा मौका आया है कि मानसून में बादल जमकर बरस रहे हैं। जिससे खेतों में हरियाली छा गयी है। हालांकि लगातार बारिश से कई जगहों पर निचले क्षेत्रों में धान की खेतों में पानी भी भर गया है। जिससे किसान चिंतित है। जिले में धान, अनानास, चायपत्ती व सब्जी की खेती होती है। बारिश से इन फसलों में जान आ गयी है। जो निचले इलाके में सब्जी की खेती किए हैं उनकी सब्जी की फसल प्रभावित हुई है। कृषि विज्ञान केंद्र के उद्यान वैज्ञानिक डा. हेमंत कुमार सिंह ने बताया कि जिले में बारिश से धान सहित अन्य फसलों को फायदा पहुंचा है। निचले इलाकों वाले खेतों में लगे धान की फसलों में जलजमाव से फसल प्रभावित हो सकती है।

फोटो 30 अगस्त केगंज 3 : सोमवार को किशनगंज शहर के डेमाकेर्ट ओवरब्रिज जाने वाली सड़क पर बारिश के दौरान जलजमाव की स्थिति

फोटो 30 अगस्त केगंज 7 : सोमवार को किशनगंज शहर केधर्मशाला रोड में बारिश के दौरान जलजमाव की स्थिति

फोटो 30 अगस्त केगंज 6 : सोमवार को किशनगंज शहर केमहावीर मार्ग रोड में बारिश के दौरान जलजमाव की स्थिति

संबंधित खबरें