Satinath Bhaduri was a great novelist - सतीनाथ भादुड़ी महान उपन्यासकार थे DA Image
22 नवंबर, 2019|11:06|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सतीनाथ भादुड़ी महान उपन्यासकार थे

सतीनाथ भादुड़ी महान उपन्यासकार थे

बंगला साहित्य के उपन्यासकार सतीनाथ भादुड़ी को कार्यक्रम के जरिए याद किया गया। किशनगंज क्लब में आयोजित कार्यक्रम में हिन्दी व बांग्ला साहित्य के साहित्यकार मौजूद थे। इस कार्यक्रम का आयोजन आमादेर कॉफी हाउस तथा प्रवासीर पाता साहित्य पत्रिका द्वारा किया गया। इसमें सतिनाथ भादुड़ी के जीवन तथा उनके कार्य के वारे मे विस्तार पूर्वक चर्चा की गई। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी से आये डा रंजीत कुमार मित्रों ने कहा कि स्व. भादुड़ी बांग्ला उपन्यासकार रहते पूर्णिया से लगाव रहा। पूर्णिया ही उनकी कर्मभूमि रही। पूर्णिया के अजय कुमार सेन्याल, इस्लामपूर के निशिकांत सिंन्हा, रायगंज के अरुण चक्रवर्ती, किशनगंज के मारवाड़ी कॉलेज के हिंदी विभागाध्यक्ष सह साहित्यकार डा. सजल प्रसाद ने लोगों को विस्तार पूर्वक भादुडी जी के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि भादुड़ी जी एक ऐसे इंसान थे जिन्होंने राजनीति से लेकर समाज सुधारक तक का सफर तय किया है। उपन्यासकार रहते इनका राजनीति से भी लगाव रहा। पहले कांग्रेस पार्टी से जुड़े फिर समाजवादी आंदोलन में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। इस दौरान सतिनाथ स्मरण संख्या और प्रवासीर पाता, आनमने एकला पथे काव्य ग्रंथ पुस्तक का भी विमोचन किया गया। आनमने एकला पथे काव्य ग्रंथ का लेखक किशनगंज के आशीष घोष ने किताब मे 34 कविताएं लिखी है। इस कार्यक्रम में दमन से सम्पादक पलाश आचार्य, साहित्यिक भारती भट्याचार्या भी मौजूद थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Satinath Bhaduri was a great novelist